Ghulam Bhik Nairang's Photo'

ग़ुलाम भीक नैरंग

1876 - 1952 | लाहौर, पाकिस्तान

ग़ज़ल 7

नज़्म 1

 

शेर 7

कहते हैं ईद है आज अपनी भी ईद होती

हम को अगर मयस्सर जानाँ की दीद होती

दर्द उल्फ़त का हो तो ज़िंदगी का क्या मज़ा

आह-ओ-ज़ारी ज़िंदगी है बे-क़रारी ज़िंदगी

मेरे पहलू में तुम आओ ये कहाँ मेरे नसीब

ये भी क्या कम है तसव्वुर में तो जाते हो

पुस्तकें 1

कलाम-ए-नेरंग

 

1983

 

"लाहौर" के और शायर

  • आरिफ़ा शहज़ाद आरिफ़ा शहज़ाद
  • फरीहा नक़वी फरीहा नक़वी
  • नाहीद क़ासमी नाहीद क़ासमी
  • शहनाज़ मुज़म्मिल शहनाज़ मुज़म्मिल
  • एजाज़ फ़ारूक़ी एजाज़ फ़ारूक़ी
  • साइमा इसमा साइमा इसमा
  • साबिर देहलवी साबिर देहलवी
  • सूरज नारायण मेहर सूरज नारायण मेहर
  • मलिक नसरुल्लाह खाँ अज़ीज़ मलिक नसरुल्लाह खाँ अज़ीज़
  • मशकूर हुसैन याद मशकूर हुसैन याद