इज़हार असर

ग़ज़ल 7

नज़्म 6

अशआर 5

एक ही शय थी ब-अंदाज़-ए-दिगर माँगी थी

मैं ने बीनाई नहीं तुझ से नज़र माँगी थी

तमाम मज़हर-ए-फ़ितरत तिरे ग़ज़ल-ख़्वाँ हैं

ये चाँदनी भी तिरे जिस्म का क़सीदा है

उन से मिलने का मंज़र भी दिल-चस्प था 'असर'

इस तरफ़ से बहारें चलीं और उधर से खिज़ाएँ चलीं

तारीकियों के पार चमकती है कोई शय

शायद मिरे जुनून-ए-सफ़र की उमंग है

तू भी तो हटा जिस्म के सूरज से अंधेरे

ये महकी हुई रात भी महताब-ब-कफ़ है

पुस्तकें 22

"दिल्ली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए