noImage

जावेद लख़नवी

लखनऊ, भारत

ग़ज़ल 17

शेर 13

शब-ए-वस्ल क्या जाने क्या याद आया

वो कुछ आप ही आप शर्मा रहे हैं

  • शेयर कीजिए

कहीं ऐसा हो मर जाऊँ मैं हसरत ही हसरत में

जो लेना हो तो ले लो सब से पहले इम्तिहाँ मेरा

  • शेयर कीजिए

तुम्हें है नश्शा जवानी का हम में ग़फ़लत-ए-इश्क़

इख़्तियार में तुम हो इख़्तियार में हम

  • शेयर कीजिए

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • मीर हसन मीर हसन
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • वलीउल्लाह मुहिब वलीउल्लाह मुहिब
  • ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर
  • मुनव्वर राना मुनव्वर राना
  • असरार-उल-हक़ मजाज़ असरार-उल-हक़ मजाज़
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़