Jitendra Mohan Sinha Rahbar's Photo'

जितेन्द्र मोहन सिन्हा रहबर

1911 - 1993 | लखनऊ, भारत

जितेन्द्र मोहन सिन्हा रहबर

ग़ज़ल 20

अशआर 26

तू ने ही रह दिखाई तो दिखाएगा कौन

हम तिरी राह में गुमराह हुए बैठे हैं

  • शेयर कीजिए

है फ़हम उस का जो हर इंसान के दिल की ज़बाँ समझे

सुख़न वो है जिसे हर शख़्स अपना ही बयाँ समझे

  • शेयर कीजिए

मोहब्बत में नहीं है इब्तिदा या इंतिहा कोई

हम अपने इश्क़ को ही इश्क़ की मंज़िल समझते हैं

  • शेयर कीजिए

आँखों आँखों में पिला दी मिरे साक़ी ने मुझे

ख़ौफ़-ए-ज़िल्लत है अंदेशा-ए-रुस्वाई है

  • शेयर कीजिए

हर शय में हर बशर में नज़र रहा है तू

सज्दे में अपने सर को झुकाऊँ कहाँ कहाँ

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

 

"लखनऊ" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए