Jitendra Mohan Sinha Rahbar's Photo'

जितेन्द्र मोहन सिन्हा रहबर

1911 - 1993 | लखनऊ, भारत

जितेन्द्र मोहन सिन्हा रहबर

ग़ज़ल 20

शेर 26

तू ने ही रह दिखाई तो दिखाएगा कौन

हम तिरी राह में गुमराह हुए बैठे हैं

  • शेयर कीजिए

मोहब्बत में नहीं है इब्तिदा या इंतिहा कोई

हम अपने इश्क़ को ही इश्क़ की मंज़िल समझते हैं

  • शेयर कीजिए

आँखों आँखों में पिला दी मिरे साक़ी ने मुझे

ख़ौफ़-ए-ज़िल्लत है अंदेशा-ए-रुस्वाई है

  • शेयर कीजिए

हर शय में हर बशर में नज़र रहा है तू

सज्दे में अपने सर को झुकाऊँ कहाँ कहाँ

  • शेयर कीजिए

छुपे हैं सात पर्दों में ये सब कहने की बातें हैं

उन्हें मेरी निगाहों ने जहाँ ढूँडा वहाँ निकले

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

पयाम-ए-रहबर

 

1995

 

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • जुरअत क़लंदर बख़्श जुरअत क़लंदर बख़्श
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • मीर हसन मीर हसन
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • अज़ीज़ बानो दाराब  वफ़ा अज़ीज़ बानो दाराब वफ़ा
  • वलीउल्लाह मुहिब वलीउल्लाह मुहिब
  • सिराज लखनवी सिराज लखनवी
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़