Kashif Husain Ghair's Photo'

काशिफ़ हुसैन ग़ाएर

1979 | कराची, पाकिस्तान

नई पीढ़ी के प्रतिष्ठित शायर

नई पीढ़ी के प्रतिष्ठित शायर

काशिफ़ हुसैन ग़ाएर

ग़ज़ल 31

शेर 26

हाल पूछा करे हाथ मिलाया करे

मैं इसी धूप में ख़ुश हूँ कोई साया करे

हमारी ज़िंदगी पर मौत भी हैरान है 'ग़ाएर'

जाने किस ने ये तारीख़-ए-पैदाइश निकाली है

  • शेयर कीजिए

क्या चाहती है हम से हमारी ये ज़िंदगी

क्या क़र्ज़ है जो हम से अदा हो नहीं रहा

कल रात जगाती रही इक ख़्वाब की दूरी

और नींद बिछाती रही बिस्तर मिरे आगे

धूप साए की तरह फैल गई

इन दरख़्तों की दुआ लेने से

चित्र शायरी 2

मौत का क्या काम जब इस शहर में ज़िंदगी जैसी बला मौजूद है

 

संबंधित शायर

  • अली अकबर नातिक़ अली अकबर नातिक़ समकालीन
  • ज़ियाउल मुस्तफ़ा तुर्क ज़ियाउल मुस्तफ़ा तुर्क समकालीन
  • इफ़्तिख़ार हैदर इफ़्तिख़ार हैदर समकालीन
  • इदरीस बाबर इदरीस बाबर समकालीन
  • दिलावर अली आज़र दिलावर अली आज़र समकालीन
  • ज़ुल्फ़िक़ार आदिल ज़ुल्फ़िक़ार आदिल समकालीन
  • अज़हर फ़राग़ अज़हर फ़राग़ समकालीन
  • अली ज़रयून अली ज़रयून समकालीन

"कराची" के और शायर

  • जौन एलिया जौन एलिया
  • आरज़ू लखनवी आरज़ू लखनवी
  • सलीम अहमद सलीम अहमद
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी
  • अनवर शऊर अनवर शऊर
  • सज्जाद बाक़र रिज़वी सज्जाद बाक़र रिज़वी
  • मोहसिन एहसान मोहसिन एहसान
  • शबनम शकील शबनम शकील
  • दिलावर फ़िगार दिलावर फ़िगार
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास