Khwaja Meer Dard's Photo'

ख़्वाजा मीर दर्द

1721 - 1785 | दिल्ली, भारत

सूफ़ी शायर, मीर तक़ी मीर के समकालीन। भारतीय संगीत के गहरे ज्ञान के लिए प्रसिध्द

सूफ़ी शायर, मीर तक़ी मीर के समकालीन। भारतीय संगीत के गहरे ज्ञान के लिए प्रसिध्द

ख़्वाजा मीर दर्द के शेर

15.9K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

सैर कर दुनिया की ग़ाफ़िल ज़िंदगानी फिर कहाँ

ज़िंदगी गर कुछ रही तो ये जवानी फिर कहाँ

ज़िंदगी है या कोई तूफ़ान है!

हम तो इस जीने के हाथों मर चले

अज़िय्यत मुसीबत मलामत बलाएँ

तिरे इश्क़ में हम ने क्या क्या देखा

तर-दामनी पे शैख़ हमारी जाइयो

दामन निचोड़ दें तो फ़रिश्ते वज़ू करें

नहीं शिकवा मुझे कुछ बेवफ़ाई का तिरी हरगिज़

गिला तब हो अगर तू ने किसी से भी निभाई हो

जग में कर इधर उधर देखा

तू ही आया नज़र जिधर देखा

मैं जाता हूँ दिल को तिरे पास छोड़े

मिरी याद तुझ को दिलाता रहेगा

कभू रोना कभू हँसना कभू हैरान हो जाना

मोहब्बत क्या भले-चंगे को दीवाना बनाती है

अर्ज़-ओ-समा कहाँ तिरी वुसअत को पा सके

मेरा ही दिल है वो कि जहाँ तू समा सके

जान से हो गए बदन ख़ाली

जिस तरफ़ तू ने आँख भर देखा

उन लबों ने की मसीहाई

हम ने सौ सौ तरह से मर देखा

है ग़लत गर गुमान में कुछ है

तुझ सिवा भी जहान में कुछ है

दुश्मनी ने सुना होवेगा

जो हमें दोस्ती ने दिखलाया

हर-चंद तुझे सब्र नहीं दर्द व-लेकिन

इतना भी मिलियो कि वो बदनाम बहुत हो

तमन्ना तिरी है अगर है तमन्ना

तिरी आरज़ू है अगर आरज़ू है

दर्द-ए-दिल के वास्ते पैदा किया इंसान को

वर्ना ताअत के लिए कुछ कम थे कर्र-ओ-बयाँ

मुझे ये डर है दिल-ए-ज़िंदा तू मर जाए

कि ज़िंदगानी इबारत है तेरे जीने से

काश उस के रू-ब-रू करें मुझ को हश्र में

कितने मिरे सवाल हैं जिन का नहीं जवाब

आगे ही बिन कहे तू कहे है नहीं नहीं

तुझ से अभी तो हम ने वे बातें कही नहीं

दिल भी 'दर्द' क़तरा-ए-ख़ूँ था

आँसुओं में कहीं गिरा होगा

खुल नहीं सकती हैं अब आँखें मिरी

जी में ये किस का तसव्वुर गया

क़ासिद नहीं ये काम तिरा अपनी राह ले

उस का पयाम दिल के सिवा कौन ला सके

साक़ी मिरे भी दिल की तरफ़ टुक निगाह कर

लब-तिश्ना तेरी बज़्म में ये जाम रह गया

एक ईमान है बिसात अपनी

इबादत कुछ रियाज़त है

हम तुझ से किस हवस की फ़लक जुस्तुजू करें

दिल ही नहीं रहा है जो कुछ आरज़ू करें

हाल मुझ ग़म-ज़दा का जिस जिस ने

जब सुना होगा रो दिया होगा

गली से तिरी दिल को ले तो चला हूँ

मैं पहुँचूँगा जब तक ये आता रहेगा

कहते थे हम 'दर्द' मियाँ छोड़ो ये बातें

पाई सज़ा और वफ़ा कीजिए उस से

वहदत में तेरी हर्फ़ दुई का सके

आईना क्या मजाल तुझे मुँह दिखा सके

यक-ब-यक नाम ले उठा मेरा

जी में क्या उस के गया होगा

'दर्द' के मिलने से यार बुरा क्यूँ माना

उस को कुछ और सिवा दीद के मंज़ूर था

आँखें भी हाए नज़अ में अपनी बदल गईं

सच है कि बेकसी में कोई आश्ना नहीं

शम्अ के मानिंद हम इस बज़्म में

चश्म-ए-तर आए थे दामन-तर चले

ग़ैर के दिल में जा कीजिएगा

मेरी आँखों में रहा कीजिएगा

तोहमत-ए-चंद अपने ज़िम्मे धर चले

जिस लिए आए थे हम कर चले

बाग़-ए-जहाँ के गुल हैं या ख़ार हैं तो हम हैं

गर यार हैं तो हम हैं अग़्यार हैं तो हम हैं

दिल भी तेरे ही ढंग सीखा है

आन में कुछ है आन में कुछ है

कमर ख़मीदा नहीं बे-सबब ज़ईफ़ी में

ज़मीन ढूँडते हैं वो मज़ार के क़ाबिल

'दर्द' कुछ मालूम है ये लोग सब

किस तरफ़ से आए थे कीधर चले

रौंदे है नक़्श-ए-पा की तरह ख़ल्क़ याँ मुझे

उम्र-ए-रफ़्ता छोड़ गई तू कहाँ मुझे

ज़ालिम जफ़ा जो चाहे सो कर मुझ पे तू वले

पछतावे फिर तू आप ही ऐसा कर कहीं

बावजूदे कि पर-ओ-बाल थे आदम के

वहाँ पहुँचा कि फ़रिश्ते का भी मक़्दूर था

क़त्ल-ए-आशिक़ किसी माशूक़ से कुछ दूर था

पर तिरे अहद से आगे तो ये दस्तूर था

तुझी को जो याँ जल्वा-फ़रमा देखा

बराबर है दुनिया को देखा देखा

टुक ख़बर ले कि हर घड़ी हम को

अब जुदाई बहुत सताती है

बंद अहकाम-ए-अक़्ल में रहना

ये भी इक नौअ' की हिमाक़त है

मत जा तर-ओ-ताज़गी पे उस की

आलम तो ख़याल का चमन है

रात मज्लिस में तिरे हुस्न के शोले के हुज़ूर

शम्अ के मुँह पे जो देखा तो कहीं नूर था

नाला फ़रियाद आह और ज़ारी

आप से हो सका सो कर देखा

सल्तनत पर नहीं है कुछ मौक़ूफ़

जिस के हाथ आए जाम वो जम है