noImage

मीर कल्लू अर्श

1783 - 1867 | लखनऊ, भारत

महान उर्दू शायर मीर तक़ी मीर के बेटे

महान उर्दू शायर मीर तक़ी मीर के बेटे

ग़ज़ल 27

शेर 10

चश्म-ए-बातिन में से जब ज़ाहिर का पर्दा उठ गया

जो मुसलमाँ था वही हिन्दू नज़र आया मुझे

  • शेयर कीजिए

नज़र किसी को वो मू-ए-कमर नहीं आता

ब-रंग-ए-तार-ए-नज़र है नज़र नहीं आता

क्या ग़ैर क्या अज़ीज़ कोई नौहागर हो

जान यूँ निकल कि बदन तक ख़बर हो

  • शेयर कीजिए

ई-पुस्तक 3

Deewan-e-Arsh

 

 

दीवान-ए-अर्श

 

1987

Deewan-e-Meer Kallu Marhoom Arsh

 

1875

 

संबंधित शायर

  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर गुरु
  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर पिता

"लखनऊ" के और शायर

  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़
  • वाली आसी वाली आसी
  • मीर अली औसत रशक मीर अली औसत रशक
  • आदिल लखनवी आदिल लखनवी
  • गोपी नाथ अम्न गोपी नाथ अम्न
  • मिर्ज़ा रज़ा बर्क़ मिर्ज़ा रज़ा बर्क़
  • मिर्ज़ा मोहम्मद तक़ी हवस मिर्ज़ा मोहम्मद तक़ी हवस
  • अमानत लखनवी अमानत लखनवी
  • आसिफ़ुद्दौला आसिफ़ुद्दौला
  • मुंशी अमीरुल्लाह तस्लीम मुंशी अमीरुल्लाह तस्लीम