ग़ज़ल 24

शेर 7

ये उम्र भर का सफ़र है इसी सहारे पर

कि वो खड़ा है अभी दूसरे किनारे पर

ख़्वाब तुम्हारे आते हैं

नींद उड़ा ले जाते हैं

कैसा झूटा सहारा है ये दुख से आँख चुराने का

कोई किसी का हाल सुना कर अपना-आप छुपाता है

पुस्तकें 1

Darya

 

1999

 

"कराची" के और शायर

  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी
  • महशर बदायुनी महशर बदायुनी
  • रज़ी अख़्तर शौक़ रज़ी अख़्तर शौक़
  • मोहसिन भोपाली मोहसिन भोपाली
  • सहबा अख़्तर सहबा अख़्तर
  • काशिफ़ हुसैन ग़ाएर काशिफ़ हुसैन ग़ाएर
  • इक़बाल अज़ीम इक़बाल अज़ीम
  • सबा अकबराबादी सबा अकबराबादी
  • फ़हीम शनास काज़मी फ़हीम शनास काज़मी
  • महबूब ख़िज़ां महबूब ख़िज़ां