ग़ज़ल 24

शेर 7

ये उम्र भर का सफ़र है इसी सहारे पर

कि वो खड़ा है अभी दूसरे किनारे पर

ख़्वाब तुम्हारे आते हैं

नींद उड़ा ले जाते हैं

जाने किस की आस लगी है जाने किस को आना है

कोई रेल की सीटी सुन कर सोते से उठ जाता है

पुस्तकें 1

Darya

 

1999

 

"कराची" के और शायर

  • परवीन शाकिर परवीन शाकिर
  • सलीम अहमद सलीम अहमद
  • सीमाब अकबराबादी सीमाब अकबराबादी
  • अनवर शऊर अनवर शऊर
  • पीरज़ादा क़ासीम पीरज़ादा क़ासीम
  • सलीम कौसर सलीम कौसर
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास
  • जमाल एहसानी जमाल एहसानी
  • जमीलुद्दीन आली जमीलुद्दीन आली
  • अज़ीज़ हामिद मदनी अज़ीज़ हामिद मदनी