Saqib Lakhnavi's Photo'

साक़िब लखनवी

1869 - 1946 | लखनऊ, भारत

प्रमुख उत्तर कलासिकी शायर / अपने शेर ‘बड़े ग़ौर से सुन रहा था ज़माना...’ के लिए मशहूर

प्रमुख उत्तर कलासिकी शायर / अपने शेर ‘बड़े ग़ौर से सुन रहा था ज़माना...’ के लिए मशहूर

साक़िब लखनवी

ग़ज़ल 46

शेर 19

ज़माना बड़े शौक़ से सुन रहा था

हमीं सो गए दास्ताँ कहते कहते

  • शेयर कीजिए

आधी से ज़ियादा शब-ए-ग़म काट चुका हूँ

अब भी अगर जाओ तो ये रात बड़ी है

  • शेयर कीजिए

बाग़बाँ ने आग दी जब आशियाने को मिरे

जिन पे तकिया था वही पत्ते हवा देने लगे

मुट्ठियों में ख़ाक ले कर दोस्त आए वक़्त-ए-दफ़्न

ज़िंदगी भर की मोहब्बत का सिला देने लगे

सुनने वाले रो दिए सुन कर मरीज़-ए-ग़म का हाल

देखने वाले तरस खा कर दुआ देने लगे

पुस्तकें 2

इंतिख़ाब-ए-ग़ज़लियात-ए-साक़िब

 

1983

Saqib Lucnwi Hayat Aur Shairi

 

1984

 

संबंधित शायर

  • मिर्ज़ा हादी रुस्वा मिर्ज़ा हादी रुस्वा समकालीन
  • उफ़ुक़ लखनवी उफ़ुक़ लखनवी समकालीन
  • रियाज़ ख़ैराबादी रियाज़ ख़ैराबादी समकालीन

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • मीर हसन मीर हसन
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • यगाना चंगेज़ी यगाना चंगेज़ी
  • ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर
  • असरार-उल-हक़ मजाज़ असरार-उल-हक़ मजाज़
  • वज़ीर अली सबा लखनवी वज़ीर अली सबा लखनवी
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़