Shahid Kamal's Photo'

शाहिद कमाल

1982 | लखनऊ, भारत

ग़ज़ल 38

शेर 4

जंग का शोर भी कुछ देर तो थम सकता है

फिर से इक अम्न की अफ़्वाह उड़ा दी जाए

  • शेयर कीजिए

तीर मत देख मिरे ज़ख़्म को देख

यार-ए-यार अपना अदू में गुम है

रेत पर वो पड़ी है मुश्क कोई

तीर भी और कमान सा कुछ है

ई-पुस्तक 1

Rasm-eTakallum

 

1991

 

"लखनऊ" के और शायर

  • हकीम आग़ा जान ऐश हकीम आग़ा जान ऐश
  • आर पी शोख़ आर पी शोख़
  • मीना नक़वी मीना नक़वी
  • ज्योती आज़ाद खतरी ज्योती आज़ाद खतरी
  • मारूफ़ देहलवी मारूफ़ देहलवी
  • मुश्ताक़ नक़वी मुश्ताक़ नक़वी
  • माहिर अब्दुल हई माहिर अब्दुल हई
  • अजीत सिंह हसरत अजीत सिंह हसरत
  • रख़शां हाशमी रख़शां हाशमी
  • अमजद हुसैन हाफ़िज़ कर्नाटकी अमजद हुसैन हाफ़िज़ कर्नाटकी