नज़्म 1

 

शेर 1

अज़ीज़-तर मुझे रखता है वो रग-ए-जाँ से

ये बात सच है मिरा बाप कम नहीं माँ से

  • शेयर कीजिए
 

"लाहौर" के और शायर

  • अल्लामा इक़बाल अल्लामा इक़बाल
  • ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र इक़बाल
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • अब्बास ताबिश अब्बास ताबिश
  • फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
  • हफ़ीज़ जालंधरी हफ़ीज़ जालंधरी
  • अहमद नदीम क़ासमी अहमद नदीम क़ासमी
  • एहसान दानिश एहसान दानिश
  • जावेद शाहीन जावेद शाहीन
  • अख़्तर शीरानी अख़्तर शीरानी