noImage

ज़ैनुल आब्दीन ख़ाँ आरिफ़

1817 | दिल्ली, भारत

अहम क्लासिकी शायर, ग़ालिब की बीवी के भांजे, जिन्हें ग़ालिब ने अपने सात बच्चों के असमय निधन के बाद बेटा बना लिया था. ग़ालिब आरिफ़ की शायरी के प्रशंसकों में भी शामिल थे

अहम क्लासिकी शायर, ग़ालिब की बीवी के भांजे, जिन्हें ग़ालिब ने अपने सात बच्चों के असमय निधन के बाद बेटा बना लिया था. ग़ालिब आरिफ़ की शायरी के प्रशंसकों में भी शामिल थे

ग़ज़ल 40

शेर 16

आप को ख़ून के आँसू ही रुलाना होगा

हाल-ए-दिल कहने को हम अपना अगर बैठ गए

तुम अपनी ज़ुल्फ़ से पूछो मिरी परेशानी

कि हाल उस को है मालूम हू-ब-हू मेरा

कर दिया तीरों से छलनी मुझे सारा लेकिन

ख़ून होने के लिए उस ने जिगर छोड़ दिया

तेरे कहने से मैं अब लाऊँ कहाँ से नासेह

सब्र जब इस दिल-ए-मुज़्तर को ख़ुदा ने दिया

आए सामने मेरे अगर नहीं आता

मुझे तो उस के सिवा कुछ नज़र नहीं आता

संबंधित शायर

  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब गुरु
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब सम्बन्ध

"दिल्ली" के और शायर

  • शैख़  ज़हूरूद्दीन हातिम शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शेख़ इब्राहीम ज़ौक़ शेख़ इब्राहीम ज़ौक़
  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब
  • मज़हर इमाम मज़हर इमाम