आज के चुनिन्दा 5 शेर

क़ैस जंगल में अकेला है मुझे जाने दो

ख़ूब गुज़रेगी जो मिल बैठेंगे दीवाने दो

मियाँ दाद ख़ां सय्याह

क्यूँ परखते हो सवालों से जवाबों को 'अदीम'

होंट अच्छे हों तो समझो कि सवाल अच्छा है

अदीम हाशमी

हुस्न के समझने को उम्र चाहिए जानाँ

दो घड़ी की चाहत में लड़कियाँ नहीं खुलतीं

परवीन शाकिर

ग़ज़ालाँ तुम तो वाक़िफ़ हो कहो मजनूँ के मरने की

दिवाना मर गया आख़िर को वीराने पे क्या गुज़री

राम नरायण मौज़ूँ
  • शेयर कीजिए

कभी किसी को मुकम्मल जहाँ नहीं मिलता

कहीं ज़मीन कहीं आसमाँ नहीं मिलता

निदा फ़ाज़ली
आज का शब्द

कहकशाँ

  • kahkashaa.n
  • کہکشاں

शब्दार्थ

Galaxy

इन्हीं पत्थरों पे चल कर अगर सको तो आओ

मिरे घर के रास्ते में कोई कहकशाँ नहीं है

शब्दकोश
आर्काइव

आज की प्रस्तुति

पाकिस्तान के प्रमुख लोकप्रिय शायर जिन्होंने केवल सत्ताईस वर्ष की उम्र में ख़ुदकुशी कर ली

इक कर्ब-ए-मुसलसल की सज़ा दें तो किसे दें

मक़्तल में हैं जीने की दुआ दें तो किसे दें

पूर्ण ग़ज़ल देखें
पसंदीदा विडियो
This video is playing from YouTube

मुज़फ्फर अली

Filmon ki Zabaan Urdu | Jashn-e-Rekhta 2015

इस विडियो को शेयर कीजिए

ई-पुस्तकें

नियाज़ नम्बर: शुमारा नम्बर-002,003

नियाज़ फ़तेहपुरी 

1963 निगार

Hazrat Ghaus-ul-Aazam Sawaneh-o-Talimat

मैकश अकबराबादी 

Deewan-e-Sabir

साबिर संभली 

2008 दीवान

अंगारे

सज्जाद ज़हीर 

अफ़साना

अमीर ख़ुसरो : फ़र्द और तारीख़

मोईनुद्दीन अक़ील 

1997 आलोचना

अन्य ई-पुस्तकें

नया क्या है

हम से जुड़िये

न्यूज़लेटर

* रेख़्ता आपके ई-मेल का प्रयोग नियमित अपडेट के अलावा किसी और उद्देश्य के लिए नहीं करेगा

Added to your favorites

Removed from your favorites