aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

CANCEL DOWNLOAD SHER
Premchand's Photo'

Premchand

1880 - 1936 | Banaras, India

The first prominent Hindi-Urdu fiction writer who gave artistic expression to social concerns through his novel and stories.

The first prominent Hindi-Urdu fiction writer who gave artistic expression to social concerns through his novel and stories.

Premchand

Short story 63

Article 13

Quote 31

दौलत से आदमी को जो इज़्ज़त मिलती है वह उसकी नहीं, उसकी दौलत की इज़्ज़त होती है।

  • Share this

मैं एक मज़दूर हूँ, जिस दिन कुछ लिख लूँ उस दिन मुझे रोटी खाने का कोई हक़ नहीं।

  • Share this

सोने और खाने का नाम ज़िंदगी नहीं है। आगे बढ़ते रहने की लगन का नाम ज़िंदगी है।

  • Share this

मायूसी मुम्किन को भी ना-मुम्किन बना देती है।

  • Share this

शायरी का आला-तरीन फ़र्ज़ इन्सान को बेहतर बनाना है।

  • Share this

BOOKS 287

RELATED Blog

 

RELATED Authors

More Authors From "Banaras"

 

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
Speak Now