लेखक : बेख़ुद देहलवी

प्रकाशक : दिल्ली प्रिंटिंग वर्क्स, दिल्ली

प्रकाशन वर्ष : 1930

भाषा : Urdu

श्रेणियाँ : शाइरी

उप श्रेणियां : दीवान

पृष्ठ : 195

सहयोगी : अंजुमन तरक़्क़ी उर्दू (हिन्द), देहली

durr-e-shahwar-e-bekhud

पुस्तक: परिचय

زیر تبصرہ کتاب "در شہوار بیخود" بیخود دہلوی کا دوسرا دیوان ہے، بیخود دہلوی، چونکہ داغ کے شاگرد تھے، اس لئے اس دیوان کی غزلوں میں داغ والی نزاکتیں، ٹکسالی زبان، فصاحت و بلاغت، تشبیہات و محاورات اور بندش کی خوش اسلوبی ظاہر ہے۔ دیوان کے شروع میں حمد اور نعتیں ہیں جو کہ غزل کی فارم میں ہے۔ اس دیوان میں ایک قصیدہ، کچھ مدحیہ قطعات، سہرے، سلام، کچھ رباعیات کے علاوہ متقرق اشعار بھی ہیں۔

.....और पढ़िए

लेखक: परिचय

बेख़ुद देहलवी, सय्यद वहीदुद्दीन (1863-1955)पैदा भरतपुर में हुए मगर परवान चढ़े देहली में और सारी उ’म्र यहीं रहे। शाइ’रों के घराने से संबंध था तो शाइ’री उन्हें विरासत में मिली थी। मौलाना ‘हाली’ से ता’लीम हासिल की और उन्हीं के कहने पर ‘दाग़’ देहलवी के शागिर्द हुए। उस्ताद का रंग इतना चढ़ा कि अपना अलग कोई रंग न बन पाया। अच्छा खाते, अच्छा पहनते थे और ख़ूब खर्च करते थे। देहली की ज़बान उनकी शाइ’री की जान है।

.....और पढ़िए

लेखक की अन्य पुस्तकें

लेखक की अन्य पुस्तकें यहाँ पढ़ें।

पूरा देखिए

पाठकों की पसंद

यदि आप अन्य पाठकों की पसंद में रुचि रखते हैं, तो रेख़्ता पाठकों की पसंदीदा उर्दू पुस्तकों की इस सूची को देखें।

पूरा देखिए

लोकप्रिय और ट्रेंडिंग

सबसे लोकप्रिय और ट्रेंडिंग उर्दू पुस्तकों का पता लगाएँ।

पूरा देखिए

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए