Bedil Haidri's Photo'

बेदिल हैदरी

1924 - 2004 | लाहौर, पाकिस्तान

सामाजिक असंतुलन, ग़रीबी और असमानता जैसी समस्याओं को शायरी का विषय बनानेवाले शायर

सामाजिक असंतुलन, ग़रीबी और असमानता जैसी समस्याओं को शायरी का विषय बनानेवाले शायर

ग़ज़ल 10

शेर 10

हम तुम में कल दूरी भी हो सकती है

वज्ह कोई मजबूरी भी हो सकती है

गर्मी लगी तो ख़ुद से अलग हो के सो गए

सर्दी लगी तो ख़ुद को दोबारा पहन लिया

रात को रोज़ डूब जाता है

चाँद को तैरना सिखाना है

भूक चेहरों पे लिए चाँद से प्यारे बच्चे

बेचते फिरते हैं गलियों में ग़ुबारे बच्चे

  • शेयर कीजिए

ख़ोल चेहरों पे चढ़ाने नहीं आते हम को

गाँव के लोग हैं हम शहर में कम आते हैं

पुस्तकें 1

Kulliyat-e-Bedil Haidari

 

2015

 

"लाहौर" के और शायर

  • ज़फ़र इक़बाल ज़फ़र इक़बाल
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • मुनीर नियाज़ी मुनीर नियाज़ी
  • अमजद इस्लाम अमजद अमजद इस्लाम अमजद
  • नबील अहमद नबील नबील अहमद नबील
  • साग़र सिद्दीक़ी साग़र सिद्दीक़ी
  • इक़बाल साजिद इक़बाल साजिद
  • एहसान दानिश एहसान दानिश
  • सैफ़ुद्दीन सैफ़ सैफ़ुद्दीन सैफ़
  • मुज़फ़्फ़र वारसी मुज़फ़्फ़र वारसी