Jafar Ali Hasrat's Photo'

जाफ़र अली हसरत

1734 - 1792 | लखनऊ, भारत

मीर तक़ी मीर के समकालीन, अपनी इश्क़िया शायरी के लिए मशहूर

मीर तक़ी मीर के समकालीन, अपनी इश्क़िया शायरी के लिए मशहूर

जाफ़र अली हसरत

ग़ज़ल 1

 

अशआर 2

तुम्हें ग़ैरों से कब फ़ुर्सत हम अपने ग़म से कम ख़ाली

चलो बस हो चुका मिलना तुम ख़ाली हम ख़ाली

  • शेयर कीजिए

उड़ गई पर से ताक़त-ए-परवाज़

कहीं सय्याद अब रिहा करे

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 2

 

संबंधित शायर

"लखनऊ" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए