Jamill Murassapuri's Photo'

जमील मुरस्सापुरी

1931 | मुंबई, भारत

ग़ज़ल 4

 

शेर 6

अगर ये ज़िद है कि मुझ से दुआ सलाम हो

तो ऐसी राह से गुज़रो जो राह-ए-आम हो

ये दौर भी क्या दौर है इस दौर में यारो

सच बोलने वालों का ही अंजाम बुरा है

ये कैसा वक़्त मुझ पर गया है

मिरे क़द से मिरा साया बड़ा है

  • शेयर कीजिए

"मुंबई" के और शायर

  • गुलज़ार गुलज़ार
  • अब्दुल अहद साज़ अब्दुल अहद साज़
  • अख़्तरुल ईमान अख़्तरुल ईमान
  • साहिर लुधियानवी साहिर लुधियानवी
  • जावेद अख़्तर जावेद अख़्तर
  • निदा फ़ाज़ली निदा फ़ाज़ली
  • अली सरदार जाफ़री अली सरदार जाफ़री
  • कैफ़ी आज़मी कैफ़ी आज़मी
  • मजरूह सुल्तानपुरी मजरूह सुल्तानपुरी
  • ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर ज़ाकिर ख़ान ज़ाकिर