ग़ज़ल 3

 

शेर 1

मैं गया हूँ वहाँ तक तिरी तमन्ना में

जहाँ से कोई भी इम्कान-ए-वापसी रहे

 

"पंजाब" के और शायर

  • शहज़ाद अहमद शहज़ाद अहमद
  • अल्लामा इक़बाल अल्लामा इक़बाल
  • क़तील शिफ़ाई क़तील शिफ़ाई
  • मुनीर नियाज़ी मुनीर नियाज़ी
  • फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • ग़ुलाम हुसैन साजिद ग़ुलाम हुसैन साजिद
  • अहमद नदीम क़ासमी अहमद नदीम क़ासमी
  • अमजद इस्लाम अमजद अमजद इस्लाम अमजद
  • अब्बास ताबिश अब्बास ताबिश