Makhdoom Mohiuddin's Photo'

मख़दूम मुहिउद्दीन

1908 - 1969 | हैदराबाद, भारत

महत्वपूर्ण प्रगतिशील शायर। उनकी कुछ ग़ज़लें ' बाज़ार ' और ' गमन ' , जैसी फिल्मों से मशहूर

महत्वपूर्ण प्रगतिशील शायर। उनकी कुछ ग़ज़लें ' बाज़ार ' और ' गमन ' , जैसी फिल्मों से मशहूर

मख़दूम मुहिउद्दीन

ग़ज़ल 18

नज़्म 38

शेर 25

हयात ले के चलो काएनात ले के चलो

चलो तो सारे ज़माने को साथ ले के चलो

  • शेयर कीजिए

इश्क़ के शोले को भड़काओ कि कुछ रात कटे

दिल के अंगारे को दहकाओ कि कुछ रात कटे

आप की याद आती रही रात भर

चश्म-ए-नम मुस्कुराती रही रात भर

हम ने हँस हँस के तिरी बज़्म में पैकर-ए-नाज़

कितनी आहों को छुपाया है तुझे क्या मालूम

  • शेयर कीजिए

बज़्म से दूर वो गाता रहा तन्हा तन्हा

सो गया साज़ पे सर रख के सहर से पहले

क़ितआ 5

 

क़िस्सा 2

 

पुस्तकें 30

चित्र शायरी 4

 

वीडियो 26

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए
आप की याद आती रही रात भर

मख़दूम मुहिउद्दीन

'ग़ालिब'

तुम जो आ जाओ आज दिल्ली में मख़दूम मुहिउद्दीन

चाँद तारों का बन

मोम की तरह जलते रहे हम शहीदों के तन मख़दूम मुहिउद्दीन

बढ़ गया बादा-ए-गुल-गूँ का मज़ा आख़िर-ए-शब

मख़दूम मुहिउद्दीन

ऑडियो 8

आप की याद आती रही रात भर

उसी चमन में चलें जश्न-ए-याद-ए-यार करें

एक था शख़्स ज़माना था कि दीवाना बना

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

"हैदराबाद" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI