noImage

मन्नू लाल सफ़ा लखनवी

- 1870 | लखनऊ, भारत

मन्नू लाल सफ़ा लखनवी

शेर 1

चर्ख़ को कब ये सलीक़ा है सितमगारी में

कोई माशूक़ है इस पर्दा-ए-ज़ंगारी में

  • शेयर कीजिए
 

"लखनऊ" के और शायर

  • मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी मुसहफ़ी ग़ुलाम हमदानी
  • हैदर अली आतिश हैदर अली आतिश
  • मीर हसन मीर हसन
  • इमदाद अली बहर इमदाद अली बहर
  • इरफ़ान सिद्दीक़ी इरफ़ान सिद्दीक़ी
  • यगाना चंगेज़ी यगाना चंगेज़ी
  • ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर ख़्वाज़ा मोहम्मद वज़ीर
  • असरार-उल-हक़ मजाज़ असरार-उल-हक़ मजाज़
  • वज़ीर अली सबा लखनवी वज़ीर अली सबा लखनवी
  • अरशद अली ख़ान क़लक़ अरशद अली ख़ान क़लक़