चित्र शायरी 1

सुनी हर बात अपने रहनुमा की यही इक भूल हम ने बार-हा की हुई जो ज़िंदगी से इत्तिफ़ाक़न वही भूल उस ने फिर इक मर्तबा की मुझी में गूँजती हैं सब सदाएँ मगर फिर भी है ख़ामोशी बला की हर इक किरदार में ढलने की चाहत मतानत देखिए बहरूपिया की अज़ल के पेशतर भी कुछ तो होगा कहाँ फिर हद मिलेगी इब्तिदा की तलातुम हैं मिरे मेरी हैं लहरें मुझे क्यूँ जुस्तुजू हो नाख़ुदा की हमारे साथ हो कर भी नहीं है शिकायत क्या करें उस गुम-शुदा की हर इक आहट तिरी आमद का धोका कभी तो लाज रख ले इस ख़ता की सरापा हाए उस नाज़ुक बदन का कोई तस्वीर जैसे अप्सरा की

 

"लखनऊ" के और शायर

  • वलीउल्लाह मुहिब वलीउल्लाह मुहिब
  • मनीश शुक्ला मनीश शुक्ला
  • जितेन्द्र मोहन सिन्हा रहबर जितेन्द्र मोहन सिन्हा रहबर
  • नसीम निकहत नसीम निकहत
  • गणेश बिहारी तर्ज़ गणेश बिहारी तर्ज़
  • अभिषेक शुक्ला अभिषेक शुक्ला
  • चकबस्त ब्रिज नारायण चकबस्त ब्रिज नारायण
  • फ़ज़्ल लखनवी फ़ज़्ल लखनवी
  • तारिक़ क़मर तारिक़ क़मर
  • जगत मोहन लाल रवाँ जगत मोहन लाल रवाँ