ग़ज़ल 2

 

शेर 1

ईद का चाँद जो देखा तो तमन्ना लिपटी

उन से तक़रीब-ए-मुलाक़ात का रिश्ता निकला

 

"लंदन" के और शायर

  • शबाना यूसुफ़ शबाना यूसुफ़
  • यावर अब्बास यावर अब्बास
  • परवीन मिर्ज़ा परवीन मिर्ज़ा
  • सय्यद जमील मदनी सय्यद जमील मदनी
  • शाहीन सिद्दीक़ी शाहीन सिद्दीक़ी
  • मुनीर अहमद देहलवी मुनीर अहमद देहलवी
  • अब्दुल रहमान बज़्मी अब्दुल रहमान बज़्मी
  • आबिद नामी आबिद नामी
  • सय्यद अहसन जावेद सय्यद अहसन जावेद
  • अज़हर लखनवी अज़हर लखनवी