Shahid Mahuli's Photo'

शाहिद माहुली

1943 | दिल्ली, भारत

शाहिद माहुली

ग़ज़ल 18

शेर 3

रंग बे-रंग हुआ डूब गईं आवाज़ें

रेत ही रेत है अब लाश उठाई जाए

  • शेयर कीजिए

फैला हुआ है जिस्म में तन्हाइयों का ज़हर

रग रग में जैसे सारी उदासी उतर गई

  • शेयर कीजिए

ख़ूँ का सैलाब था जो सर से अभी गुज़रा है

बाम-ओ-दर अब भी सिसकते हैं मगर घर चुप हैं

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 111

आले अहमद सुरूर

दानिशवर, नक़्क़ाद व शाइर

1997

Akhtar-ul-Iman Aks Aur Jihatein

 

2000

Anand Narain Mulla: Shair Aur Danishwar

 

1995

Bahadur Shah Zafar

Ek Mutala

2000

Begam Hamida Sultan Ahmad

 

1999

Dagh Dehlavi

 

2001

Faiz Ahmad Faiz

Aks Aur jehten

1987

फ़ैज़ अहमद फ़ैज़

अक्स और जेहतें

2011

Ghalib Aur Agra

 

2003

ग़ालिब और अहद-ए-ग़ालिब

नई नस्ल की नज़र में

2001

"दिल्ली" के और शायर

  • मिर्ज़ा ग़ालिब मिर्ज़ा ग़ालिब
  • शैख़  ज़हूरूद्दीन हातिम शैख़ ज़हूरूद्दीन हातिम
  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर
  • इंशा अल्लाह ख़ान इंशा इंशा अल्लाह ख़ान इंशा
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • अनीसुर्रहमान अनीसुर्रहमान
  • आबरू शाह मुबारक आबरू शाह मुबारक
  • शाह नसीर शाह नसीर
  • ताबाँ अब्दुल हई ताबाँ अब्दुल हई