noImage

शौक़ असर रामपुरी

रामपुर, भारत

शेर 7

अभी फ़र्क़ है आदमी आदमी में

अभी दूर है आदमी आदमी से

  • शेयर कीजिए

मिरे ख़याल की वुसअत में हैं हज़ार चमन

कहाँ कहाँ से निकालेगी ये बहार मुझे

  • शेयर कीजिए

वो ग़म हो या अलम हो दर्द हो या आलम-ए-वहशत

उसे अपना समझ ज़िंदगी जो तेरे काम आए

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

Tasveerein

 

2009

 

"रामपुर" के और शायर

  • मुनीर शिकोहाबादी मुनीर शिकोहाबादी
  • निज़ाम रामपुरी निज़ाम रामपुरी
  • अज़हर इनायती अज़हर इनायती
  • शाहिद इश्क़ी शाहिद इश्क़ी
  • अब्दुल वहाब सुख़न अब्दुल वहाब सुख़न
  • सय्यद यूसुफ़ अली खाँ नाज़िम सय्यद यूसुफ़ अली खाँ नाज़िम
  • महशर इनायती महशर इनायती
  • मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल
  • उरूज ज़ैदी बदायूनी उरूज ज़ैदी बदायूनी
  • जावेद नसीमी जावेद नसीमी