noImage

शौक़ असर रामपुरी

रामपुर, भारत

शौक़ असर रामपुरी

ग़ज़ल 11

शेर 7

अभी फ़र्क़ है आदमी आदमी में

अभी दूर है आदमी आदमी से

  • शेयर कीजिए

मिरे ख़याल की वुसअत में हैं हज़ार चमन

कहाँ कहाँ से निकालेगी ये बहार मुझे

  • शेयर कीजिए

वो ग़म हो या अलम हो दर्द हो या आलम-ए-वहशत

उसे अपना समझ ज़िंदगी जो तेरे काम आए

  • शेयर कीजिए

शगुफ़्ता फूल जो देखे तो 'शौक़' याद आया

दिए थे दाग़ भी गुलशन ने बे-शुमार मुझे

  • शेयर कीजिए

बता नसीब-ए-नशेमन मैं क्या दुआ माँगूँ

जो आसमाँ की तरफ़ रौशनी नज़र आए

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

Fasile

 

1965

Tasveerein

 

2009

 

"रामपुर" के और शायर

  • निज़ाम रामपुरी निज़ाम रामपुरी
  • अज़हर इनायती अज़हर इनायती
  • सय्यद यूसुफ़ अली खाँ नाज़िम सय्यद यूसुफ़ अली खाँ नाज़िम
  • मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल मुनव्वर ख़ान ग़ाफ़िल
  • अकबर अली खान अर्शी जादह अकबर अली खान अर्शी जादह
  • उरूज क़ादरी उरूज क़ादरी
  • उरूज ज़ैदी बदायूनी उरूज ज़ैदी बदायूनी
  • जावेद नसीमी जावेद नसीमी
  • रसा रामपुरी रसा रामपुरी
  • जावेद कमाल रामपुरी जावेद कमाल रामपुरी