Syed Yusuf Ali Khan Nazim's Photo'

सय्यद यूसुफ़ अली खाँ नाज़िम

1816 - 1865 | रामपुर, भारत

सय्यद यूसुफ़ अली खाँ नाज़िम

ग़ज़ल 25

अशआर 44

ये किस ज़ोहरा-जबीं की अंजुमन में आमद आमद है

बिछाया है क़मर ने चाँदनी का फ़र्श महफ़िल में

है ईद मय-कदे को चलो देखता है कौन

शहद शकर पे टूट पड़े रोज़ा-दार आज

  • शेयर कीजिए

ईद के दिन जाइए क्यूँ ईद-गाह

जब कि दर-ए-मय-कदा वा हो गया

  • शेयर कीजिए

सँभाल वाइ'ज़ ज़बान अपनी ख़ुदा से डरा इक ज़रा हया कर

बुतों की ग़ीबत ख़ुदा के घर में ख़ुदा ख़ुदा कर ख़ुदा ख़ुदा कर

  • शेयर कीजिए

बोसा-ए-आरिज़ मुझे देते हुए डरता है क्यूँ

लूँगा क्या नोक-ए-ज़बाँ से तेरे रुख़ का तिल उठा

  • शेयर कीजिए

रुबाई 24

पुस्तकें 5

 

संबंधित शायर

"रामपुर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए