abdurrahman momin's Photo'

अब्दुर्रहमान मोमिन

1996 | कराची, पाकिस्तान

पाकिस्तान के नौजवान शायर

पाकिस्तान के नौजवान शायर

ग़ज़ल 18

शेर 21

चाँद में तू नज़र आया था मुझे

मैं ने महताब नहीं देखा था

ख़ुद को कितना भुला दिया मैं ने

तू भी अब अजनबी सा लगता है

सितम तो ये है कि मैं ने उसे भी छोड़ दिया

जो सब को छोड़ के तन्हा खड़ा है मेरे साथ

संबंधित शायर

  • इनआम आज़मी इनआम आज़मी समकालीन
  • पल्लव मिश्रा पल्लव मिश्रा समकालीन
  • इनाम कबीर इनाम कबीर समकालीन
  • अजमल सिराज अजमल सिराज पिता
  • आशू मिश्रा आशू मिश्रा समकालीन
  • अनीस अब्र अनीस अब्र समकालीन
  • ओसामा अमीर ओसामा अमीर समकालीन
  • अज़हर नवाज़ अज़हर नवाज़ समकालीन

"कराची" के और शायर

  • नुज़हत अब्बासी नुज़हत अब्बासी
  • इसहाक़ अतहर सिद्दीक़ी इसहाक़ अतहर सिद्दीक़ी
  • इंजिला हमेश इंजिला हमेश
  • रज़िया सुबहान रज़िया सुबहान
  • मक़बूल नक़्श मक़बूल नक़्श
  • हसनैन जाफ़री हसनैन जाफ़री
  • अतहर ज़ियाई अतहर ज़ियाई
  • हफ़ीज़ फ़ातिमा बरेलवी हफ़ीज़ फ़ातिमा बरेलवी
  • ओसामा अमीर ओसामा अमीर
  • सबीला इनाम सिद्दीक़ी सबीला इनाम सिद्दीक़ी