Agha Hashr Kashmiri's Photo'

आग़ा हश्र काश्मीरी

1879 - 1935 | लाहौर, पाकिस्तान

लोकप्रिय नाटककार और शायर, जिनके लेखन ने उर्दू में नाटक लेखन को एक स्थायी परम्परा के रूप में स्थापित किया

लोकप्रिय नाटककार और शायर, जिनके लेखन ने उर्दू में नाटक लेखन को एक स्थायी परम्परा के रूप में स्थापित किया

आग़ा हश्र काश्मीरी

ग़ज़ल 5

 

अशआर 9

गोया तुम्हारी याद ही मेरा इलाज है

होता है पहरों ज़िक्र तुम्हारा तबीब से

ये खुले खुले से गेसू इन्हें लाख तू सँवारे

मिरे हाथ से सँवरते तो कुछ और बात होती

याद में तेरी जहाँ को भूलता जाता हूँ मैं

भूलने वाले कभी तुझ को भी याद आता हूँ मैं

  • शेयर कीजिए

सब कुछ ख़ुदा से माँग लिया तुझ को माँग कर

उठते नहीं हैं हाथ मिरे इस दुआ के बाद

  • शेयर कीजिए

गो हवा-ए-गुलसिताँ ने मिरे दिल की लाज रख ली

वो नक़ाब ख़ुद उठाते तो कुछ और बात होती

पुस्तकें 48

वीडियो 7

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो

मुख़्तार बेगम

चोरी कहीं खुले न नसीम-ए-बहार की

फ़रीदा ख़ानम

चोरी कहीं खुले न नसीम-ए-बहार की

मुख़्तार बेगम

तुम और फ़रेब खाओ बयान-ए-रक़ीब से

मुख़्तार बेगम

याद में तेरी जहाँ को भूलता जाता हूँ मैं

अली सेठी

याद में तेरी जहाँ को भूलता जाता हूँ मैं

मुख़्तार बेगम

सू-ए-मय-कदा न जाते तो कुछ और बात होती

फ़रीदा ख़ानम

"लाहौर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए