aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर

फ़रह शाहिद

ग़ज़ल 5

 

नज़्म 3

 

अशआर 12

पूछो ज़रा ये चाँद से कैसे सहर हुई

इतनी तवील रात भी कैसे बसर हुई

  • शेयर कीजिए

कुछ इस तरह क़रीब वो आया मिरे लिए

उस की तवज्जोह प्यार में चाहत का घर हुई

  • शेयर कीजिए

तक़्सीम फिर हुई है विरासत कुछ इस तरह

इक माँ ज़मीं पे देखिए फिर दर-ब-दर हुई

  • शेयर कीजिए

वो यूँ तो लगता है सब के जैसा

मगर जुदा कुछ जनाब में है

मैं उस की अंखों में ऐसे डूबी

कि डूबा कोई चनाब में है

पुस्तकें 2

 

"शारजह" के और शायर

 

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 2-3-4 December 2022 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate, New Delhi

GET YOUR FREE PASS
बोलिए