Farhat Abbas Shah's Photo'

फ़रहत अब्बास शाह

1964 | लाहौर, पाकिस्तान

ग़ज़ल 17

शेर 4

उस के बारे में बहुत सोचता हूँ

मुझ से बिछड़ा तो किधर जाएगा

कभी सहर तो कभी शाम ले गया मुझ से

तुम्हारा दर्द कई काम ले गया मुझ से

उसे ज़ियादा ज़रूरत थी घर बसाने की

वो के मेरे दर-ओ-बाम ले गया मुझ से

ई-पुस्तक 2

आवारा मिज़ाज

 

 

 

संबंधित शायर

  • अजमल सिराज अजमल सिराज समकालीन

"लाहौर" के और शायर

  • मोहम्मद हनीफ़ रामे मोहम्मद हनीफ़ रामे
  • जवाज़ जाफ़री जवाज़ जाफ़री
  • मंसूर आफ़ाक़ मंसूर आफ़ाक़
  • अब्बास ताबिश अब्बास ताबिश
  • अली इफ़्तिख़ार ज़ाफ़री अली इफ़्तिख़ार ज़ाफ़री
  • अबरार अहमद अबरार अहमद
  • इफ़्तिख़ार हैदर इफ़्तिख़ार हैदर
  • मोहम्मद ख़ालिद मोहम्मद ख़ालिद
  • असग़र नदीम सय्यद असग़र नदीम सय्यद
  • अदीम हाशमी अदीम हाशमी