Farhat Abbas Shah's Photo'

फ़रहत अब्बास शाह

1964 | लाहौर, पाकिस्तान

ग़ज़ल 17

शेर 4

उस के बारे में बहुत सोचता हूँ

मुझ से बिछड़ा तो किधर जाएगा

कभी सहर तो कभी शाम ले गया मुझ से

तुम्हारा दर्द कई काम ले गया मुझ से

उसे ज़ियादा ज़रूरत थी घर बसाने की

वो के मेरे दर-ओ-बाम ले गया मुझ से

ई-पुस्तक 1

आवारा मिज़ाज

 

 

 

संबंधित शायर

  • अजमल सिराज अजमल सिराज समकालीन

"लाहौर" के और शायर

  • साबिर वसीम साबिर वसीम
  • मोहम्मद हनीफ़ रामे मोहम्मद हनीफ़ रामे
  • कौसर  नियाज़ी कौसर नियाज़ी
  • अब्बास दाना अब्बास दाना
  • अनवार फ़ितरत अनवार फ़ितरत
  • अब्बास रिज़वी अब्बास रिज़वी
  • अदीब सहारनपुरी अदीब सहारनपुरी
  • सरफ़राज़ शाहिद सरफ़राज़ शाहिद
  • शब्बीर शाहिद शब्बीर शाहिद
  • अशफ़ाक़ आमिर अशफ़ाक़ आमिर