वीडियो 57

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
हास्य वीडियो

फ़रीदा ख़ानम

फ़रीदा ख़ानम

फ़रीदा ख़ानम

फ़रीदा ख़ानम

Aafat ki shokhiya.n hai.n tumhaari nigaah mein

फ़रीदा ख़ानम

Gulon Ki Baat Karo Gul Rukho Ki Bat Karo

फ़रीदा ख़ानम

Na aate, hamen isme takrar kya thi

फ़रीदा ख़ानम

Tum Aur Fareb Khao Bayan-e-Raqeeb Se

फ़रीदा ख़ानम

Tum Naghma-e-Maah Ho Anjum Ho

फ़रीदा ख़ानम

dildar dekhna

तूफ़ाँ ब-दिल है हर कोई दिलदार देखना फ़रीदा ख़ानम

hum par jafa se tark-e-wafa ka guman nahin

फ़रीदा ख़ानम

ibn-e-maryam hua kare koi

फ़रीदा ख़ानम

असर उस को ज़रा नहीं होता

फ़रीदा ख़ानम

आज ही महफ़िल सर्द पड़ी है आज ही दर्द फ़रावाँ है

फ़रीदा ख़ानम

इश्क़ मुझ को नहीं वहशत ही सही

फ़रीदा ख़ानम

कुछ इश्क़ था कुछ मजबूरी थी सो मैं ने जीवन वार दिया

फ़रीदा ख़ानम

क्या हुआ जो सितारे चमकते नहीं दाग़ दिल के फ़रोज़ाँ करो दोस्तो

फ़रीदा ख़ानम

कैसे गुज़र सकेंगे ज़माने बहार के

फ़रीदा ख़ानम

कौन उस राह से गुज़रता है

फ़रीदा ख़ानम

ग़ज़ब किया तिरे वअ'दे पे ए'तिबार किया

फ़रीदा ख़ानम

गर्मी-ए-शौक़-ए-नज़ारा का असर तो देखो

फ़रीदा ख़ानम

गर्मी-ए-हसरत-ए-नाकाम से जल जाते हैं

फ़रीदा ख़ानम

गिरफ़्ता-दिल हैं बहुत आज तेरे दीवाने

फ़रीदा ख़ानम

गो ज़रा सी बात पर बरसों के याराने गए

फ़रीदा ख़ानम

चमन मैं रंग-ए-बहार उतरा तो मैं ने देखा

फ़रीदा ख़ानम

चाँद निकले किसी जानिब तिरी ज़ेबाई का

फ़रीदा ख़ानम

जमेगी कैसे बिसात-ए-याराँ कि शीशा ओ जाम बुझ गए हैं

फ़रीदा ख़ानम

जल्वा-सामाँ है रंग-ओ-बू हम से

फ़रीदा ख़ानम

जल्वा-सामाँ है रंग-ओ-बू हम से

फ़रीदा ख़ानम

जाने किस की थी ख़ता याद नहीं

फ़रीदा ख़ानम

न आते हमें इस में तकरार क्या थी

फ़रीदा ख़ानम

न किसी पे ज़ख़्म अयाँ कोई न किसी को फ़िक्र रफ़ू की है

फ़रीदा ख़ानम

न गँवाओ नावक-ए-नीम-कश दिल-ए-रेज़ा-रेज़ा गँवा दिया

फ़रीदा ख़ानम

ना-रवा कहिए ना-सज़ा कहिए

फ़रीदा ख़ानम

बेचैन बहुत फिरना घबराए हुए रहना

फ़रीदा ख़ानम

मैं ने जब लिखना सीखा था

फ़रीदा ख़ानम

मैं नज़र से पी रहा हूँ ये समाँ बदल न जाए

फ़रीदा ख़ानम

मोहब्बत करने वाले कम न होंगे

फ़रीदा ख़ानम

या-रब ग़म-ए-हिज्राँ में इतना तो किया होता

फ़रीदा ख़ानम

या-रब ग़म-ए-हिज्राँ में इतना तो किया होता

फ़रीदा ख़ानम

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ

फ़रीदा ख़ानम

राह आसान हो गई होगी

फ़रीदा ख़ानम

लुत्फ़ वो इश्क़ में पाए हैं कि जी जानता है

फ़रीदा ख़ानम

वफ़ा-ए-वादा नहीं वादा-ए-दिगर भी नहीं

फ़रीदा ख़ानम

वो कभी मिल जाएँ तो क्या कीजिए

फ़रीदा ख़ानम

शाम-ए-फ़िराक़ अब न पूछ आई और आ के टल गई

फ़रीदा ख़ानम

सू-ए-मय-कदा न जाते तो कुछ और बात होती

फ़रीदा ख़ानम

सब क़त्ल हो के तेरे मुक़ाबिल से आए हैं

फ़रीदा ख़ानम

सब क़त्ल हो के तेरे मुक़ाबिल से आए हैं

फ़रीदा ख़ानम

साज़ ये कीना-साज़ क्या जानें

फ़रीदा ख़ानम

हुई ताख़ीर तो कुछ बाइस-ए-ताख़ीर भी था

फ़रीदा ख़ानम

हर सम्त परेशाँ तिरी आमद के क़रीने

फ़रीदा ख़ानम

हस्ती अपनी हबाब की सी है

फ़रीदा ख़ानम

हाल ऐसा नहीं कि तुम से कहें

फ़रीदा ख़ानम

मेरे हम-नफ़स मेरे हम-नवा मुझे दोस्त बन के दग़ा न दे

फ़रीदा ख़ानम

वो जो हम में तुम में क़रार था तुम्हें याद हो कि न याद हो

फ़रीदा ख़ानम

ज़िक्र उस परी-वश का और फिर बयाँ अपना

फ़रीदा ख़ानम

"लाहौर" के और शायर

  • फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
  • अल्लामा इक़बाल अल्लामा इक़बाल
  • शहज़ाद अहमद शहज़ाद अहमद
  • मुनीर नियाज़ी मुनीर नियाज़ी
  • हफ़ीज़ जालंधरी हफ़ीज़ जालंधरी
  • नासिर काज़मी नासिर काज़मी
  • हबीब जालिब हबीब जालिब
  • वसी शाह वसी शाह
  • सूफ़ी तबस्सुम सूफ़ी तबस्सुम
  • नबील अहमद नबील नबील अहमद नबील