ग़ज़ल 19

नज़्म 23

शेर 4

कौन बदन से आगे देखे औरत को

सब की आँखें गिरवी हैं इस नगरी में

तिरे गीतों का मतलब और है कुछ

हमारा धुन सरासर मुख़्तलिफ़ है

फ़ज़ा यूँही तो नहीं मल्गजी हुई जाती

कोई तो ख़ाक-नशीं होश खो रहा होगा

पुस्तकें 4

Dasht-e-Wajood

 

2006

Dasht-e-Wajood

 

2006

Dastak

 

2005

ज़िन्दा हूँ

 

2010

 

ऑडियो 5

hamiida shahiin

मिरी दुनिया का मेहवर मुख़्तलिफ़ है

रहीन-ए-ख़्वाब-ए-गुम-गश्ता हमारे सामने मत आ

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • ज़ियाउल हसन ज़ियाउल हसन पति

"लाहौर" के और शायर

  • फरीहा नक़वी फरीहा नक़वी
  • आरिफ़ा शहज़ाद आरिफ़ा शहज़ाद
  • नाहीद क़ासमी नाहीद क़ासमी
  • शहनाज़ मुज़म्मिल शहनाज़ मुज़म्मिल
  • एजाज़ फ़ारूक़ी एजाज़ फ़ारूक़ी
  • साइमा इसमा साइमा इसमा
  • साबिर देहलवी साबिर देहलवी
  • ज़ियाउल हसन ज़ियाउल हसन
  • शाहीन अब्बास शाहीन अब्बास
  • वसी शाह वसी शाह