Mohammad Khalid's Photo'

मोहम्मद ख़ालिद

1950 - 2020 | लाहौर, पाकिस्तान

मोहम्मद ख़ालिद

ग़ज़ल 12

शेर 2

अव्वल-ए-इश्क़ की साअत जा कर फिर नहीं आई

फिर कोई मौसम पहले मौसम सा नहीं देखा

कौन सुनता है हवाओं की अजब सरगोशियाँ

और जाती हैं हवाएँ दर-ब-दर किस के लिए

 

संबंधित शायर

"लाहौर" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI