noImage

मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा

1789 - 1868 | दिल्ली, भारत

मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा

ग़ज़ल 14

नज़्म 1

 

अशआर 8

दिल तमाम नफ़अ' है सौदा-ए-इश्क़ में

इक जान का ज़ियाँ है सो ऐसा ज़ियाँ नहीं

  • शेयर कीजिए

वो और वा'दा वस्ल का क़ासिद नहीं नहीं

सच सच बता ये लफ़्ज़ उन्ही की ज़बाँ के हैं

  • शेयर कीजिए

'आज़ुर्दा' मर के कूचा-ए-जानाँ में रह गया

दी थी दुआ किसी ने कि जन्नत में घर मिले

  • शेयर कीजिए

इस दर्द-ए-जुदाई से कहीं जान निकल जाए

'आज़ुर्दा' मिरे हक़ में ज़रा यूँ भी दुआ कर

  • शेयर कीजिए

नासेह यहाँ ये फ़िक्र है सीना भी चाक हो

है फ़िक्र-ए-बख़िया तुझ को गरेबाँ के चाक में

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 2

 

संबंधित शायर

"दिल्ली" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए