ग़ज़ल 6

शेर 8

ज़िंदगी भर मुझे इस बात की हसरत ही रही

दिन गुज़ारूँ तो कोई रात सुहानी आए

मदरसा मेरा मेरी ज़ात में है

ख़ुद मोअल्लिम हूँ ख़ुद किताब हूँ मैं

तू नहीं तो तिरा ख़याल सही

कोई तो हम-ख़याल है मेरा

दर-ब-दर होने से पहले कभी सोचा भी था

घर मुझे रास आया तो किधर जाऊँगा

मुझ को क्या क्या दुख मिले 'साक़ी'

मेरे अपनों की मेहरबानी से

वीडियो 19

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
शायर अपना कलाम पढ़ते हुए

साक़ी अमरोहवी

साक़ी अमरोहवी

साक़ी अमरोहवी

साक़ी अमरोहवी

साक़ी अमरोहवी

साक़ी अमरोहवी

साक़ी अमरोहवी

साक़ी अमरोहवी

साक़ी अमरोहवी

साक़ी अमरोहवी

At a mushaira

साक़ी अमरोहवी

Mushaira Saqi Amrohi Ghazal HallaGulla Com Part 2

साक़ी अमरोहवी

कौन पुर्सान-ए-हाल है मेरा

साक़ी अमरोहवी

ख़ुदा ने क्यूँ दिल-ए-दर्द-आश्ना दिया है मुझे

साक़ी अमरोहवी

ज़िंदगी भर मैं सरगिरानी से

साक़ी अमरोहवी

मंज़िलें लाख कठिन आएँ गुज़र जाऊँगा

साक़ी अमरोहवी

मंज़िलें लाख कठिन आएँ गुज़र जाऊँगा

साक़ी अमरोहवी

शरह-ए-ग़म हाए बे-हिसाब हूँ मैं

साक़ी अमरोहवी

सामने जब कोई भरपूर जवानी आए

साक़ी अमरोहवी

संबंधित शायर

  • अली सरदार जाफ़री अली सरदार जाफ़री समकालीन
  • रईस अमरोहवी रईस अमरोहवी समकालीन

"कराची" के और शायर

  • परवीन शाकिर परवीन शाकिर
  • आरज़ू लखनवी आरज़ू लखनवी
  • सलीम अहमद सलीम अहमद
  • अनवर शऊर अनवर शऊर
  • मोहसिन एहसान मोहसिन एहसान
  • शबनम शकील शबनम शकील
  • अज़रा अब्बास अज़रा अब्बास
  • सलीम कौसर सलीम कौसर
  • ज़ेहरा निगाह ज़ेहरा निगाह
  • अदा जाफ़री अदा जाफ़री