Shuja Khaavar's Photo'

शुजा ख़ावर

1948 - 2012 | दिल्ली, भारत

भूतपूर्व आई.पी .एस अधिकारी जिन्होने आपनी नौकरी बीच में ही छोड़ दी थी।

भूतपूर्व आई.पी .एस अधिकारी जिन्होने आपनी नौकरी बीच में ही छोड़ दी थी।

ग़ज़ल 44

शेर 35

या तो जो ना-फ़हम हैं वो बोलते हैं इन दिनों

या जिन्हें ख़ामोश रहने की सज़ा मालूम है

आप इधर आए उधर दीन और ईमान गए

ईद का चाँद नज़र आया तो रमज़ान गए

  • शेयर कीजिए

मिरे हालात को बस यूँ समझ लो

परिंदे पर शजर रक्खा हुआ है

पुस्तकें 20

अल्लाह हू

 

2000

Baat

 

1993

दूसरा शजर

 

1993

दूसरा शजर

 

1970

Dusra Shajar

 

1970

Gazaliya

 

1995

Ghazal Pare

 

1990

ग़ज़लिया

 

1995

Khiraj-e-Dostan

 

 

Misra-e-Saani

 

1987

ऑडियो 11

अब तेरे लिए हैं न ज़माने के लिए हैं

उधर तो दार पर रक्खा हुआ है

उस को न ख़याल आए तो हम मुँह से कहें क्या

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित शायर

  • आशुफ़्ता चंगेज़ी आशुफ़्ता चंगेज़ी समकालीन
  • मोहम्मद आज़म मोहम्मद आज़म समकालीन
  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास समकालीन
  • सरवत हुसैन सरवत हुसैन समकालीन

"दिल्ली" के और शायर

  • अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ अशरफ़ अली फ़ुग़ाँ
  • मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा मुफ़्ती सदरुद्दीन आज़ुर्दा
  • फ़रहत एहसास फ़रहत एहसास
  • अमीर क़ज़लबाश अमीर क़ज़लबाश
  • राजेन्द्र मनचंदा बानी राजेन्द्र मनचंदा बानी
  • अमीक़ हनफ़ी अमीक़ हनफ़ी
  • बलराज कोमल बलराज कोमल
  • हसरत मोहानी हसरत मोहानी
  • परवीन उम्म-ए-मुश्ताक़ परवीन उम्म-ए-मुश्ताक़
  • बेख़ुद देहलवी बेख़ुद देहलवी