Siraj Lakhnavi's Photo'

सिराज लखनवी

1894 - 1968 | लखनऊ, भारत

सिराज लखनवी

ग़ज़ल 32

नज़्म 1

 

अशआर 55

आँखें खुलीं तो जाग उठीं हसरतें तमाम

उस को भी खो दिया जिसे पाया था ख़्वाब में

  • शेयर कीजिए

आप के पाँव के नीचे दिल है

इक ज़रा आप को ज़हमत होगी

  • शेयर कीजिए

कहाँ हैं आज वो शम-ए-वतन के परवाने

बने हैं आज हक़ीक़त उन्हीं के अफ़्साने

  • शेयर कीजिए

हाँ तुम को भूल जाने की कोशिश करेंगे हम

तुम से भी हो सके तो आना ख़याल में

  • शेयर कीजिए

ये आधी रात ये काफ़िर अंधेरा

सोता हूँ जागा जा रहा है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 4

 

चित्र शायरी 3

 

संबंधित शायर

"लखनऊ" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए