Ameer Minai's Photo'

अमीर मीनाई

1829 - 1900 | हैदराबाद, भारत

दाग़ देहलवी के समकालीन। अपनी ग़ज़ल ' सरकती जाए है रुख़ से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता ' के लिए प्रसिद्ध हैं।

दाग़ देहलवी के समकालीन। अपनी ग़ज़ल ' सरकती जाए है रुख़ से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता ' के लिए प्रसिद्ध हैं।

32.9K
Favorite

श्रेणीबद्ध करें

कश्तियाँ सब की किनारे पे पहुँच जाती हैं

नाख़ुदा जिन का नहीं उन का ख़ुदा होता है

तुम को आता है प्यार पर ग़ुस्सा

मुझ को ग़ुस्से पे प्यार आता है

वस्ल का दिन और इतना मुख़्तसर

दिन गिने जाते थे इस दिन के लिए

उल्फ़त में बराबर है वफ़ा हो कि जफ़ा हो

हर बात में लज़्ज़त है अगर दिल में मज़ा हो

ख़ंजर चले किसी पे तड़पते हैं हम 'अमीर'

सारे जहाँ का दर्द हमारे जिगर में है

कौन सी जा है जहाँ जल्वा-ए-माशूक़ नहीं

शौक़-ए-दीदार अगर है तो नज़र पैदा कर

where in this world does ones beloved's beauty not reside

if the zeal for sight you have, the vision too provide

गाहे गाहे की मुलाक़ात ही अच्छी है 'अमीर'

क़द्र खो देता है हर रोज़ का आना जाना

तीर खाने की हवस है तो जिगर पैदा कर

सरफ़रोशी की तमन्ना है तो सर पैदा कर

आफ़त तो है वो नाज़ भी अंदाज़ भी लेकिन

मरता हूँ मैं जिस पर वो अदा और ही कुछ है

हुए नामवर बे-निशाँ कैसे कैसे

ज़मीं खा गई आसमाँ कैसे कैसे

हँस के फ़रमाते हैं वो देख के हालत मेरी

क्यूँ तुम आसान समझते थे मोहब्बत मेरी

अभी आए अभी जाते हो जल्दी क्या है दम ले लो

छेड़ूँगा मैं जैसी चाहे तुम मुझ से क़सम ले लो

माँग लूँ तुझ से तुझी को कि सभी कुछ मिल जाए

सौ सवालों से यही एक सवाल अच्छा है

आँखें दिखलाते हो जोबन तो दिखाओ साहब

वो अलग बाँध के रक्खा है जो माल अच्छा है

show me not your anger dear show me your youthful prime

the wealth that you have covered up is truly sublime

फ़िराक़-ए-यार ने बेचैन मुझ को रात भर रक्खा

कभी तकिया इधर रक्खा कभी तकिया उधर रक्खा

किसी रईस की महफ़िल का ज़िक्र ही क्या है

ख़ुदा के घर भी जाएँगे बिन बुलाए हुए

'अमीर' अब हिचकियाँ आने लगी हैं

कहीं मैं याद फ़रमाया गया हूँ

जो चाहिए सो माँगिये अल्लाह से 'अमीर'

उस दर पे आबरू नहीं जाती सवाल से

हटाओ आइना उम्मीद-वार हम भी हैं

तुम्हारे देखने वालों में यार हम भी हैं

जवाँ होने लगे जब वो तो हम से कर लिया पर्दा

हया यक-लख़्त आई और शबाब आहिस्ता आहिस्ता

as she came of age she started to be veiled from me

shyness came to her at once, beauty then slowly

अल्लाह-रे सादगी नहीं इतनी उन्हें ख़बर

मय्यत पे के पूछते हैं इन को क्या हुआ

कौन उठाएगा तुम्हारी ये जफ़ा मेरे बाद

याद आएगी बहुत मेरी वफ़ा मेरे बाद

after I am gone, your torture who will bear

you'll miss my devotion, when I am not there

फिर बैठे बैठे वादा-ए-वस्ल उस ने कर लिया

फिर उठ खड़ा हुआ वही रोग इंतिज़ार का

वो दुश्मनी से देखते हैं देखते तो हैं

मैं शाद हूँ कि हूँ तो किसी की निगाह में

मानी हैं मैं ने सैकड़ों बातें तमाम उम्र

आज आप एक बात मेरी मान जाइए

All my life I have agreed to everything you say

merely one request of mine please accept today

तीर पर तीर लगाओ तुम्हें डर किस का है

सीना किस का है मिरी जान जिगर किस का है

सरकती जाए है रुख़ से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता

निकलता रहा है आफ़्ताब आहिस्ता आहिस्ता

the veil slips from her visage at such a gentle pace

as though the sun emerges from a cloud's embrace

आहों से सोज़-ए-इश्क़ मिटाया जाएगा

फूँकों से ये चराग़ बुझाया जाएगा

बाद मरने के भी छोड़ी रिफ़ाक़त मेरी

मेरी तुर्बत से लगी बैठी है हसरत मेरी

even after death my love did not forsake

at my grave my desires kept a steady wake

मुश्किल बहुत पड़ेगी बराबर की चोट है

आईना देखिएगा ज़रा देख-भाल के

ख़ुदा ने नेक सूरत दी तो सीखो नेक बातें भी

बुरे होते हो अच्छे हो के ये क्या बद-ज़बानी है

आया एक बार अयादत को तू मसीह

सौ बार मैं फ़रेब से बीमार हो चुका

मिरा ख़त उस ने पढ़ा पढ़ के नामा-बर से कहा

यही जवाब है इस का कोई जवाब नहीं

सारी दुनिया के हैं वो मेरे सिवा

मैं ने दुनिया छोड़ दी जिन के लिए

शाएर को मस्त करती है तारीफ़-ए-शेर 'अमीर'

सौ बोतलों का नश्शा है इस वाह वाह में

समझता हूँ सबब काफ़िर तिरे आँसू निकलने का

धुआँ लगता है आँखों में किसी के दिल के जलने का

उस की हसरत है जिसे दिल से मिटा भी सकूँ

ढूँडने उस को चला हूँ जिसे पा भी सकूँ

The one that I desire, this heart cannot displace

The one who is unattainable I seek to embrace

शब-ए-फ़ुर्क़त का जागा हूँ फ़रिश्तो अब तो सोने दो

कभी फ़ुर्सत में कर लेना हिसाब आहिस्ता आहिस्ता

I haven't slept since parting eve, O Angels, I request

I'll settle your accounts at leisure for now let me rest

ये भी इक बात है अदावत की

रोज़ा रक्खा जो हम ने दावत की

है जवानी ख़ुद जवानी का सिंगार

सादगी गहना है इस सिन के लिए

youthfullness is itself an ornament forsooth

innocence is the only jewel needed in ones youth

तेरी मस्जिद में वाइज़ ख़ास हैं औक़ात रहमत के

हमारे मय-कदे में रात दिन रहमत बरसती है

लुत्फ़ आने लगा जफ़ाओं में

वो कहीं मेहरबाँ हो जाए

I've started to enjoy her tortures by and by

I hope she doesn't now decide to

पहलू में मेरे दिल को दर्द कर तलाश

मुद्दत हुई ग़रीब वतन से निकल गया

ज़ब्त देखो उधर निगाह की

मर गए मरते मरते आह की

अच्छे ईसा हो मरीज़ों का ख़याल अच्छा है

हम मरे जाते हैं तुम कहते हो हाल अच्छा है

करता मैं दर्दमंद तबीबों से क्या रुजूअ

जिस ने दिया था दर्द बड़ा वो हकीम था

for my pain how could I seek, from doctors remedy

the one who caused this ache, a healer great was he

इन शोख़ हसीनों पे जो माइल नहीं होता

कुछ और बला होती है वो दिल नहीं होता

नावक-ए-नाज़ से मुश्किल है बचाना दिल का

दर्द उठ उठ के बताता है ठिकाना दिल का

मस्जिद में बुलाते हैं हमें ज़ाहिद-ए-ना-फ़हम

होता कुछ अगर होश तो मय-ख़ाने जाते

कबाब-ए-सीख़ हैं हम करवटें हर-सू बदलते हैं

जल उठता है जो ये पहलू तो वो पहलू बदलते हैं