aaj ik aur baras biit gayā us ke baġhair

jis ke hote hue hote the zamāne mere

रद करें डाउनलोड शेर
Mushir Jhanjhanvi's Photo'

मुशीर झंझान्वी

1926 - 1990 | दिल्ली, भारत

मुशीर झंझान्वी

ग़ज़ल 12

नज़्म 1

 

अशआर 2

मसर्रतों ने तो चाहा था दिल में जाएँ

हुजूम-ए-ग़म ने मगर उन को रास्ता दिया

  • शेयर कीजिए

वो सुन सकें कोई उनवाँ इसी लिए हम ने

बदल बदल के उन्हें दास्ताँ सुनाई है

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 2

 

ऑडियो 9

तेरी चश्म-ए-सितम-ईजाद से डर लगता है

ताब-ए-नज़र से उन को परेशाँ किए हुए

दिल बेताब-ए-मर्ग-ए-ना-गहाँ बाक़ी न रह जाए

Recitation

संबंधित शायर

"दिल्ली" के और शायर

Recitation

Jashn-e-Rekhta | 8-9-10 December 2023 - Major Dhyan Chand National Stadium, Near India Gate - New Delhi

GET YOUR PASS
बोलिए