शेर 1

सँभाला होश तो मरने लगे हसीनों पर

हमें तो मौत ही आई शबाब के बदले

  • शेयर कीजिए
 

पुस्तकें 11

दीवान-ए-सुख़न देहल्वी

 

1886

Sarosh-e-Sukhan

 

1907

Sarosh-e-Sukhan

 

1871

सरोश-ए-सुख़न

 

1918

सरोश-ए-सुख़न

 

 

सरोश-ए-सुख़न

तस्वीरात

1887

सरोश-ए-सुख़न

 

1874

Sarosh-e-Sukhan Ma Tasveerat

 

1902

Sarosh-e-Sukhan Ma Tasveerat

 

1877

सरोश-ए-सुख़न मआ तसवीरात

 

1887

"दिल्ली" के और शायर

  • नसीम देहलवी नसीम देहलवी
  • क़ुर्बान अली सालिक बेग क़ुर्बान अली सालिक बेग
  • हकीम आग़ा जान ऐश हकीम आग़ा जान ऐश
  • हीरा लाल फ़लक देहलवी हीरा लाल फ़लक देहलवी
  • आदिल हयात आदिल हयात
  • सुधांशु फ़िरदौस सुधांशु फ़िरदौस
  • मुर्ली धर शाद मुर्ली धर शाद
  • मीनू बख़्शी मीनू बख़्शी
  • नीना सहर नीना सहर
  • शकील शम्सी शकील शम्सी