noImage

इश्क़ औरंगाबादी

औरंगाबाद, भारत

ग़ज़ल 39

शेर 18

आईना कभी क़ाबिल-ए-दीदार होवे

गर ख़ाक के साथ उस को सरोकार होवे

मज़ा आब-ए-बक़ा का जान-ए-जानाँ

तिरा बोसा लिया होवे सो जाने

  • शेयर कीजिए

आँखों से दिल के दीद को माने नहीं नफ़स

आशिक़ को ऐन-हिज्र में भी वस्ल-ए-यार है

ई-पुस्तक 1

दीवान-ए-इश्क़

 

1960

 

"औरंगाबाद" के और शायर

  • क़ाज़ी सलीम क़ाज़ी सलीम
  • सिराज औरंगाबादी सिराज औरंगाबादी
  • बशर नवाज़ बशर नवाज़
  • मिद्हत-उल-अख़्तर मिद्हत-उल-अख़्तर
  • सिकंदर अली वज्द सिकंदर अली वज्द
  • साबिर साबिर
  • अब्दुर्रहीम नश्तर अब्दुर्रहीम नश्तर
  • क़मर इक़बाल क़मर इक़बाल
  • फ़ारूक़ शमीम फ़ारूक़ शमीम
  • शाह हुसैन नहरी शाह हुसैन नहरी