ADVERTISEMENT

श्रद्धांजलि पर शेर

अच्छे लोग कभी नहीं मरते

वो अपनी माद्दी जिस्मानी सूरत से तो आज़ाद हो जाते हैं लेकिन उनकी यादें दिलों में हमेशा घर किए रहती हैं और हम उन्हें वक़्तन फ़वक़्तन याद करते रहते हैं। यहाँ हम कुछ ऐसे ही शेर पेश कर रहे हैं जो गुज़रे हुओं को याद करने और उन्हें ख़िराज-ए-अक़ीदत पेश करने की मुख़्तलिफ़ सूरतों, जज़्बों और एहसासात की तर्जुमानी करते हैं।

ये मुझे चैन क्यूँ नहीं पड़ता

एक ही शख़्स था जहान में क्या

जौन एलिया

हज़ारों साल नर्गिस अपनी बे-नूरी पे रोती है

बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदा-वर पैदा

अल्लामा इक़बाल

रहने को सदा दहर में आता नहीं कोई

तुम जैसे गए ऐसे भी जाता नहीं कोई

कैफ़ी आज़मी

मत सहल हमें जानो फिरता है फ़लक बरसों

तब ख़ाक के पर्दे से इंसान निकलते हैं

ये मीर तक़ी मीर के मशहूर अशआर में से एक है। इस शे’र की बुनियाद ''मत सहल हमें जानो” पर है। सहल का मतलब आसान है और कम से कम भी। मगर इस शे’र में यह लफ़्ज़ कम से कम के मानी में इस्तेमाल हुआ है। फ़लक का मतलब आस्मान है और फ़लक के फिरने से तात्पर्य चक्कर काटने और मारा मारा फिरने के भी हैं। इस शे’र में फ़लक के फिरने से तात्पर्य मारा मारा फिरने के ही हैं। ख़ाक का मतलब ज़मीन, मिट्टी है और ख़ाक शब्द मीर ने इस लिए इस्तेमाल किया है कि इंसान ख़ाक (मिट्टी) से बना हुआ है यानी ख़ाकी कहा जाता है।

शे’र में ख़ास बात ये है कि शायर ने “फ़लक”, “ख़ाक” और “इंसान” जैसे शब्दों से बहुत कमाल का ख़्याल पेश किया है। शे’र के नज़दीक के मानी तो ये हुए कि इंसान हम जैसे लोगों को आसान मत समझो, हम जैसे लोग तब मिट्टी से पैदा होते हैं जब आस्मान बरसों तक भटकता है। लेकिन शायर अस्ल में ये कहना चाहता है कि हम जैसे कमाल के लोग रोज़ रोज़ पैदा नहीं होते बल्कि जब आस्मान बरसों मारा मारा फिरता है तब हम जैसे लोग पैदा होते हैं। इसलिए हमें कम या बहुत छोटा मत जानो। यानी जब आस्मान बरसों तक हम जैसे कमाल के लोगों को पैदा करने के लिए मारा मारा फिरता है तब कहीं जाकर हम मिट्टी के पर्दे से पैदा होते हैं।

मीर तक़ी मीर
ADVERTISEMENT

बिछड़ा कुछ इस अदा से कि रुत ही बदल गई

इक शख़्स सारे शहर को वीरान कर गया

ख़ालिद शरीफ़

लोग अच्छे हैं बहुत दिल में उतर जाते हैं

इक बुराई है तो बस ये है कि मर जाते हैं

रईस फ़रोग़

जिन से मिल कर ज़िंदगी से इश्क़ हो जाए वो लोग

आप ने शायद देखे हों मगर ऐसे भी हैं

सुरूर बाराबंकवी

कहानी ख़त्म हुई और ऐसी ख़त्म हुई

कि लोग रोने लगे तालियाँ बजाते हुए

रहमान फ़ारिस
ADVERTISEMENT

एक सूरज था कि तारों के घराने से उठा

आँख हैरान है क्या शख़्स ज़माने से उठा

परवीन शाकिर

उठ गई हैं सामने से कैसी कैसी सूरतें

रोइए किस के लिए किस किस का मातम कीजिए

हैदर अली आतिश

अब नहीं लौट के आने वाला

घर खुला छोड़ के जाने वाला

अख़्तर नज़्मी

मौत उस की है करे जिस का ज़माना अफ़्सोस

यूँ तो दुनिया में सभी आए हैं मरने के लिए

महमूद रामपुरी
ADVERTISEMENT

तेरी महफ़िल से जो निकला तो ये मंज़र देखा

मुझे लोगों ने बुलाया मुझे छू कर देखा

राहत इंदौरी

जाने वाले कभी नहीं आते

जाने वालों की याद आती है

सिकंदर अली वज्द

एक रौशन दिमाग़ था रहा

शहर में इक चराग़ था रहा

अल्ताफ़ हुसैन हाली

सब कहाँ कुछ लाला-ओ-गुल में नुमायाँ हो गईं

ख़ाक में क्या सूरतें होंगी कि पिन्हाँ हो गईं

ग़ालिब का यह मशहूर शे’र अर्थगत और कलात्मक दोनों स्तरों पर कमाल का दर्जा रखता है। शे’र के संदर्भ बड़े दिलचस्प हैं। लाला-ओ-गुल के संदर्भ से सूरतें और इन दोनों की रियायत से ख़ाक(मिट्टी), नुमायां के संदर्भ से पिनहाँ (गोपनीय) और इन दोनों की रियायत से “ख़ाक” हर पहलू से विचारणीय है। मानव रूपों को लाला-ओ-गुल से तुलना करना और फिर उनके आविर्भाव के लिए ख़ाक(मिट्टी) को माध्यम बनाना ग़ालिब का ही कमाल है। और इससे बढ़कर कमाल ये है कि लाला-ओ-गुल को मानव रूपों के अधीन बताया है और वो भी तब जब वो ख़ाक में मिल जाती हैं।

“सब कहाँ कुछ” कह कर जैसे यह बताया गया है कि ये जो लाला-ओ-गुल हैं ये उन मानव रूपों में से कुछ ही में प्रकट हुए हैं जो मरने के बाद क़ब्र में समाती हैं। “ख़ाक में क्या सूरतें होंगी” अर्थात कैसे कैसे हसीन रूपवान लोग मिट्टी में मिल गए। शे’र का भावार्थ ये है कि मरने के बाद बड़े ख़ूबसूरत लोग भी मिट्टी में मिल जाते हैं। उनमें से कुछ ही लाला-ओ-गुल के रूप में प्रकट होते हैं। मानो लाला-ओ-गुल के रूप में वो परी जैसे सुंदर रूप वाले लोग दूसरा जन्म लेते हैं या अगर उन ख़ूबसूरत लोगों में से सब के सब लाला-ओ-गुल के रूप में प्रकट होंगें तो सारी धरती भर जाएगी।

मिर्ज़ा ग़ालिब
ADVERTISEMENT

जिन्हें अब गर्दिश-ए-अफ़्लाक पैदा कर नहीं सकती

कुछ ऐसी हस्तियाँ भी दफ़्न हैं गोर-ए-ग़रीबाँ में

मख़मूर देहलवी

वो अब वहाँ है जहाँ रास्ते नहीं जाते

मैं जिस के साथ यहाँ पिछले साल आया था

बशीर बद्र

ये हिजरतें हैं ज़मीन ज़माँ से आगे की

जो जा चुका है उसे लौट कर नहीं आना

आफ़ताब इक़बाल शमीम

वे सूरतें इलाही किस मुल्क बस्तियाँ हैं

अब देखने को जिन के आँखें तरसतियाँ हैं

मोहम्मद रफ़ी सौदा
ADVERTISEMENT

कल उस की आँख ने क्या ज़िंदा गुफ़्तुगू की थी

गुमान तक हुआ वो बिछड़ने वाला है

उम्मीद फ़ाज़ली

तुम्हारी मौत ने मारा है जीते-जी हम को

हमारी जान भी गोया तुम्हारी जान में थी

शकील आज़मी

झोंके नसीम-ए-ख़ुल्द के होने लगे निसार

जन्नत को इस गुलाब का था कब से इंतिज़ार

ख़ालिद मीनाई