Nazeer Akbarabadi's Photo'

नज़ीर अकबराबादी

1735 - 1830 | आगरा, भारत

मीर तक़ी ' मीर ' के समकालीन अग्रणी शायर जिन्होंने भारतीय संस्कृति और त्योहारों पर नज्में लिखीं। होली , दीवाली , श्रीकृष्ण पर नज़्मों के लिए मशहूर

मीर तक़ी ' मीर ' के समकालीन अग्रणी शायर जिन्होंने भारतीय संस्कृति और त्योहारों पर नज्में लिखीं। होली , दीवाली , श्रीकृष्ण पर नज़्मों के लिए मशहूर

नज़ीर अकबराबादी

ग़ज़ल 231

नज़्म 29

अशआर 107

जुदा किसी से किसी का ग़रज़ हबीब हो

ये दाग़ वो है कि दुश्मन को भी नसीब हो

  • शेयर कीजिए

था इरादा तिरी फ़रियाद करें हाकिम से

वो भी एे शोख़ तिरा चाहने वाला निकला

  • शेयर कीजिए

मय पी के जो गिरता है तो लेते हैं उसे थाम

नज़रों से गिरा जो उसे फिर किस ने सँभाला

  • शेयर कीजिए

थे हम तो ख़ुद-पसंद बहुत लेकिन इश्क़ में

अब है वही पसंद जो हो यार को पसंद

  • शेयर कीजिए

क्यूँ नहीं लेता हमारी तू ख़बर बे-ख़बर

क्या तिरे आशिक़ हुए थे दर्द-ओ-ग़म खाने को हम

रुबाई 22

पुस्तकें 53

चित्र शायरी 2

 

वीडियो 20

This video is playing from YouTube

वीडियो का सेक्शन
अन्य वीडियो

सयान चौधरी

"Bahr-e-Taweel"

Zia Mohiuddin reads "Bahr-e-Taweel" nazeer akbarabadi ka likha hua ek sher hai jo be-inteha lamba hai. Ziya sahib ki khubsurat aawaaz mein us ka lutf dugna ho jaata hai. ज़िया मोहीउद्दीन

Diwali Nazm

अज्ञात

Khoon rez karishma naaz sitam

छाया गांगुली

Khoonrez Karishma Naaz Sitam

छाया गांगुली

हम अश्क-ए-ग़म हैं अगर थम रहे रहे न रहे

इक़बाल बानो

आदमी-नामा

दुनिया में पादशह है सो है वो भी आदमी हबीब तनवीर

आदमी-नामा

दुनिया में पादशह है सो है वो भी आदमी

आदमी-नामा

दुनिया में पादशह है सो है वो भी आदमी मेहदी ज़हीर

तन पर उस के सीम फ़िदा और मुँह पर मह दीवाना है

सयान चौधरी

दूर से आए थे साक़ी सुन के मय-ख़ाने को हम

निर्मला देवी

बंजारा-नामा

टुक हिर्स-ओ-हवा को छोड़ मियाँ मत देस बिदेस फिरे मारा मुकेश

बंजारा-नामा

टुक हिर्स-ओ-हवा को छोड़ मियाँ मत देस बिदेस फिरे मारा मेहदी ज़हीर

बंजारा-नामा

टुक हिर्स-ओ-हवा को छोड़ मियाँ मत देस बिदेस फिरे मारा अज्ञात

बंजारा-नामा

टुक हिर्स-ओ-हवा को छोड़ मियाँ मत देस बिदेस फिरे मारा अज्ञात

रोटियाँ

जब आदमी के पेट में आती हैं रोटियाँ जसविंदर सिंह

हम अश्क-ए-ग़म हैं अगर थम रहे रहे न रहे

इक़बाल बानो

होली

आ धमके ऐश ओ तरब क्या क्या जब हुस्न दिखाया होली ने अज्ञात

होली की बहारें

जब फागुन रंग झमकते हों तब देख बहारें होली की छाया गांगुली

ऑडियो 8

उस के शरार-ए-हुस्न ने शो'ला जो इक दिखा दिया

न मैं दिल को अब हर मकाँ बेचता हूँ

नज़र पड़ा इक बुत-ए-परी-वश निराली सज-धज नई अदा का

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

संबंधित ब्लॉग

 

"आगरा" के और शायर

Recitation

aah ko chahiye ek umr asar hote tak SHAMSUR RAHMAN FARUQI

बोलिए