मुफ़्लिसी शायरी

मुफ़्लिसी से शायद आप न गुज़रे हों लेकिन इंसानी समाज का हिस्सा होने की वजह से इस का एहसास तो कर सकते हैं। अगर कर सकते हैं तो अंदाज़ा होगा कि मुफ़्लिसी किस क़दर जाँ-सोज़ होती है और साथ ही एक मुफ़्लिस आदमी के तईं समाज का रवैय्या क्या होता है वो किस तरह समाजी अलाहदगी का दुख झेलता है। हमारा ये शेअरी इंतिख़ाब मुफ़्लिस और मुफ़्लिसी के मसाइल पर एक तख़लीक़ी मुकालिमा है आप उसे पढ़िए और ज़िंदगी का नया शऊर हासिल कीजिए।

सियह-बख़्ती में कब कोई किसी का साथ देता है

कि तारीकी में साया भी जुदा रहता है इंसाँ से

इमाम बख़्श नासिख़

फ़रिश्ते कर उन के जिस्म पर ख़ुश्बू लगाते हैं

वो बच्चे रेल के डिब्बों में जो झाड़ू लगाते हैं

मुनव्वर राना

भूक चेहरों पे लिए चाँद से प्यारे बच्चे

बेचते फिरते हैं गलियों में ग़ुबारे बच्चे

बेदिल हैदरी

घर लौट के रोएँगे माँ बाप अकेले में

मिट्टी के खिलौने भी सस्ते थे मेले में

क़ैसर-उल जाफ़री

खड़ा हूँ आज भी रोटी के चार हर्फ़ लिए

सवाल ये है किताबों ने क्या दिया मुझ को

नज़ीर बाक़री

बच्चों की फ़ीस उन की किताबें क़लम दवात

मेरी ग़रीब आँखों में स्कूल चुभ गया

मुनव्वर राना

आज फिर माँ मुझे मारेगी बहुत रोने पर

आज फिर गाँव में आया है खिलौने वाला

अज्ञात

ग़म की दुनिया रहे आबाद 'शकील'

मुफ़लिसी में कोई जागीर तो है

शकील बदायुनी

अपने बच्चों को मैं बातों में लगा लेता हूँ

जब भी आवाज़ लगाता है खिलौने वाला

राशिद राही

जो मेरे गाँव के खेतों में भूक उगने लगी

मिरे किसानों ने शहरों में नौकरी कर ली

आरिफ़ शफ़ीक़

खिलौनों की दुकानो रास्ता दो

मिरे बच्चे गुज़रना चाहते हैं

अज्ञात

शर्म आती है कि उस शहर में हम हैं कि जहाँ

मिले भीक तो लाखों का गुज़ारा ही हो

जाँ निसार अख़्तर

ईद का दिन है सो कमरे में पड़ा हूँ 'असलम'

अपने दरवाज़े को बाहर से मुक़फ़्फ़ल कर के

असलम कोलसरी

जब चली ठंडी हवा बच्चा ठिठुर कर रह गया

माँ ने अपने ला'ल की तख़्ती जला दी रात को

सिब्त अली सबा

मुफ़लिसी सब बहार खोती है

मर्द का ए'तिबार खोती है

वली मोहम्मद वली

वो अक्सर दिन में बच्चों को सुला देती है इस डर से

गली में फिर खिलौने बेचने वाला जाए

मोहसिन नक़वी

खिलौनों के लिए बच्चे अभी तक जागते होंगे

तुझे मुफ़्लिसी कोई बहाना ढूँड लेना है

मुनव्वर राना

भूके बच्चों की तसल्ली के लिए

माँ ने फिर पानी पकाया देर तक

नवाज़ देवबंदी

बीच सड़क इक लाश पड़ी थी और ये लिक्खा था

भूक में ज़हरीली रोटी भी मीठी लगती है

बेकल उत्साही

जुरअत-ए-शौक़ तो क्या कुछ नहीं कहती लेकिन

पाँव फैलाने नहीं देती है चादर मुझ को

बिस्मिल अज़ीमाबादी

मैं ओझल हो गई माँ की नज़र से

गली में जब कोई बारात आई

शहनाज़ नबी

ग़रीब-ए-शहर तो फ़ाक़े से मर गया 'आरिफ़'

अमीर-ए-शहर ने हीरे से ख़ुद-कुशी कर ली

आरिफ़ शफ़ीक़

अपनी ग़ुर्बत की कहानी हम सुनाएँ किस तरह

रात फिर बच्चा हमारा रोते रोते सो गया

इबरत मछलीशहरी

मुफ़लिसों की ज़िंदगी का ज़िक्र क्या

मुफ़्लिसी की मौत भी अच्छी नहीं

रियाज़ ख़ैराबादी

मैं 'ज़फ़र' ता-ज़िंदगी बिकता रहा परदेस में

अपनी घर-वाली को इक कंगन दिलाने के लिए

ज़फ़र गोरखपुरी

ग़ुर्बत की तेज़ आग पे अक्सर पकाई भूक

ख़ुश-हालियों के शहर में क्या कुछ नहीं किया

इक़बाल साजिद

बे-ज़री फ़ाक़ा-कशी मुफ़्लिसी बे-सामानी

हम फ़क़ीरों के भी हाँ कुछ नहीं और सब कुछ है

नज़ीर अकबराबादी

आया है इक राह-नुमा के इस्तिक़बाल को इक बच्चा

पेट है ख़ाली आँख में हसरत हाथों में गुल-दस्ता है

ग़ुलाम मोहम्मद क़ासिर

अब ज़मीनों को बिछाए कि फ़लक को ओढ़े

मुफ़्लिसी तो भरी बरसात में बे-घर हुई है

सलीम सिद्दीक़ी

हटो काँधे से आँसू पोंछ डालो वो देखो रेल-गाड़ी रही है

मैं तुम को छोड़ कर हरगिज़ जाता ग़रीबी मुझ को ले कर जा रही है

अज्ञात

दो-शाला शाल कश्मीरी अमीरों को मुबारक हो

गलीम-ए-कोहना में जाड़ा फ़क़ीरों का बसर होगा

आग़ा अकबराबादी

मुफ़्लिसी भूक को शहवत से मिला देती है

गंदुमी लम्स में है ज़ाइक़ा-ए-नान-ए-जवीं

अब्दुल अहद साज़

देव परी के क़िस्से सुन कर

भूके बच्चे सो लेते हैं

अतीक़ इलाहाबादी

मुफ़लिसी में मिज़ाज शाहाना

किस मरज़ की दवा करे कोई

यगाना चंगेज़ी

मुफ़्लिसी हिस्स-ए-लताफ़त को मिटा देती है

भूक आदाब के साँचों में नहीं ढल सकती

अज्ञात

जब आया ईद का दिन घर में बेबसी की तरह

तो मेरे फूल से बच्चों ने मुझ को घेर लिया

बिस्मिल साबरी

हम हसीन ग़ज़लों से पेट भर नहीं सकते

दौलत-ए-सुख़न ले कर बे-फ़राग़ हैं यारो

फ़ज़ा इब्न-ए-फ़ैज़ी

मुफ़्लिसी सीं अब ज़माने का रहा कुछ हाल नईं

आसमाँ चर्ख़ी के जूँ फिरता है लेकिन माल नईं

आबरू शाह मुबारक