ADVERTISEMENT

सोशल डिस्टेन्सिंग शायरी पर शेर

कोई हाथ भी मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से

ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो

बशीर बद्र

क़ुर्बतें लाख ख़ूब-सूरत हों

दूरियों में भी दिलकशी है अभी

अहमद फ़राज़

अब नहीं कोई बात ख़तरे की

अब सभी को सभी से ख़तरा है

जौन एलिया

थकना भी लाज़मी था कुछ काम करते करते

कुछ और थक गया हूँ आराम करते करते

ज़फ़र इक़बाल
ADVERTISEMENT

ये जो मिलाते फिरते हो तुम हर किसी से हाथ

ऐसा हो कि धोना पड़े ज़िंदगी से हाथ

जावेद सबा

रास्ते हैं खुले हुए सारे

फिर भी ये ज़िंदगी रुकी हुई है

ज़फ़र इक़बाल

ये कह के उस ने मुझे मख़मसे में डाल दिया

मिलाओ हाथ अगर वाक़ई मोहब्बत है

जावेद सबा

शाम होते ही खुली सड़कों की याद आती है

सोचता रोज़ हूँ मैं घर से नहीं निकलूँगा

शहरयार
ADVERTISEMENT

दिल तो पहले ही जुदा थे यहाँ बस्ती वालो

क्या क़यामत है कि अब हाथ मिलाने से गए

ईमान क़ैसरानी

घर में ख़ुद को क़ैद तो मैं ने आज किया है

तब भी तन्हा था जब महफ़िल महफ़िल था मैं

शारिक़ कैफ़ी

टेंशन से मरेगा क्रोने से मरेगा

इक शख़्स तिरे पास होने से मरेगा

इदरीस बाबर

हाल पूछा करे हाथ मिलाया करे

मैं इसी धूप में ख़ुश हूँ कोई साया करे

काशिफ़ हुसैन ग़ाएर
ADVERTISEMENT

कुछ रोज़ नसीर आओ चलो घर में रहा जाए

लोगों को ये शिकवा है कि घर पर नहीं मिलता

नसीर तुराबी

एक ही शहर में रहना है मगर मिलना नहीं

देखते हैं ये अज़िय्यत भी गवारा कर के

ऐतबार साजिद

घूम-फिर कर क़त्ल-ए-आम करे

जो जहाँ है वहीं क़याम करे

शब्बीर नाज़िश

भूक से या वबा से मरना है

फ़ैसला आदमी को करना है

इशरत आफ़रीं
ADVERTISEMENT

कपड़े बदल कर बाल बना कर कहाँ चले हो किस के लिए

रात बहुत काली है 'नासिर' घर में रहो तो बेहतर है

नासिर काज़मी

अफ़्सोस ये वबा के दिनों की मोहब्बतें

इक दूसरे से हाथ मिलाने से भी गए

सज्जाद बलूच

अब तो मुश्किल है किसी और का होना मिरे दोस्त

तू मुझे ऐसे हुआ जैसे क्रोना मिरे दोस्त

इदरीस बाबर

घर रहिए कि बाहर है इक रक़्स बलाओं का

इस मौसम-ए-वहशत में नादान निकलते हैं

फ़रासत रिज़वी
ADVERTISEMENT

मुमकिन है यही दिल के मिलाने का सबब हो

ये रुत जो हमें हाथ मिलाने नहीं देती

अरशद जमाल सारिम

बाज़ार हैं ख़ामोश तो गलियों पे है सकता

अब शहर में तन्हाई का डर बोल रहा है

इसहाक़ विरदग

ऐसी तरक़्क़ी पर तो रोना बनता है

जिस में दहशत-गर्द क्रोना बनता है

इसहाक़ विरदग

कोई दवा भी नहीं है यही तो रोना है

सद एहतियात कि फैला हुआ क्रोना है

वजीह सानी
ADVERTISEMENT

शहर गुम-सुम रास्ते सुनसान घर ख़ामोश हैं

क्या बला उतरी है क्यूँ दीवार-ओ-दर ख़ामोश हैं

अज़हर नक़वी

मैं वो महरूम-ए-इनायत हूँ कि जिस ने तुझ से

मिलना चाहा तो बिछड़ने की वबा फूट पड़ी

नईम जर्रार अहमद

इन दूरियों ने और बढ़ा दी हैं क़ुर्बतें

सब फ़ासले वबा की तवालत से मिट गए

ऐतबार साजिद

मौत जाए वबा में ये अलग बात मगर

हम तिरे हिज्र में नाग़ा तो नहीं कर सकते

साबिर आफ़ाक़
ADVERTISEMENT

जहाँ जो था वहीं रहना था उस को

मगर ये लोग हिजरत कर रहे हैं

लियाक़त जाफ़री

मुझे ये सारे मसीहा अज़ीज़ हैं लेकिन

ये कह रहे हैं कि मैं तुम से फ़ासला रक्खूँ

सऊद उस्मानी

जान है तो जहान है दिल है तो आरज़ू भी है

इशक़ भी हो रहेगा फिर जान अभी बचाइए

सऊद उस्मानी

अपनी मजबूरी को हम दीवार-ओ-दर कहने लगे

क़ैद का सामाँ किया और उस को घर कहने लगे

शबनम रूमानी
ADVERTISEMENT

वस्ल को मौक़ूफ़ करना पड़ गया है चंद रोज़

अब मुझे मिलने आना अब कोई शिकवा नहीं

अज्ञात

हर एक जिस्म में मौजूद हश्त-पा की तरह

वबा का ख़ौफ़ है ख़ुद भी किसी वबा की तरह

सऊद उस्मानी

इक बला कूकती है गलियों में

सब सिमट कर घरों में बैठ रहें

मोहम्मद जावेद अनवर

कैसा चमन कि हम से असीरों को मनअ' है

चाक-ए-क़फ़स से बाग़ की दीवार देखना

मीर तक़ी मीर

अकेला हो रह-ए-दुनिया में गिर चाहे बहुत जीना

हुई है फ़ैज़-ए-तन्हाई से उम्र-ए-ख़िज़्र तूलानी

मोहम्मद रफ़ी सौदा

शहर-ए-जाँ में वबाओं का इक दौर था

मैं अदा-ए-तनफ़्फ़ुस में कमज़ोर था

पल्लव मिश्रा

आप ही आप दिए बुझते चले जाते हैं

और आसेब दिखाई भी नहीं देता है

रज़ी अख़्तर शौक़