Ankit Gautam's Photo'

अंकित गौतम

दिल्ली, भारत

नौजवान शायर और मंच से जुड़े कलाकार

नौजवान शायर और मंच से जुड़े कलाकार

चित्र शायरी 1

रिश्तों को जब धूप दिखाई जाती है सिगरेट से सिगरेट सुलगाई जाती है जिस्म हमारा इक ऐसी मिल है जिस में अँधियारों से धूप बनाई जाती है ना से उस की शक्ल मिलाने लगता हूँ जब उस की आवाज़ सुनाई जाती है क्या वो पन्ने सच-मुच कोरे होते हैं जिन पर कोई ज़र्ब लगाई जाती है बुल्ले-बाबा दीवानो को समझाओ अपनी हस्ती काम में लाई जाती है अपनी मिट्टी अपना पानी वापस ले सुनते हैं ये शय लौटाई जाती है पत्थर ले कर आते हैं सब सीने में भाग जगे तो ठोकर खाई जाती है ख़ामोशी से यकजा करते हैं ख़ुद को शोर मचा कर आग बुझाई जाती है होते होते रौशन होता है चेहरा जाते जाते दिल से कोई जाती है दोनों भवों की शिकनें हाथ बटाती हैं अपनी तेज़ी आँख बनाई जाती है

 

"दिल्ली" के और शायर

  • वफ़ा नक़वी वफ़ा नक़वी
  • सिया सचदेव सिया सचदेव
  • एहतिमाम सादिक़ एहतिमाम सादिक़
  • प्रताप सोमवंशी प्रताप सोमवंशी
  • दीपक पुरोहित दीपक पुरोहित
  • इन्दिरा वर्मा इन्दिरा वर्मा
  • नवीन जोशी नवीन जोशी
  • कुंवर बेचैन कुंवर बेचैन
  • ख़्वाजा जावेद अख़्तर ख़्वाजा जावेद अख़्तर
  • मक़सूद आफ़ाक़ मक़सूद आफ़ाक़