Maikash Akbarabadi's Photo'

मैकश अकबराबादी

1902 - 1991 | आगरा, भारत

ग़ज़ल 3

 

शेर 14

मिरे फ़ुसूँ ने दिखाई है तेरे रुख़ की सहर

मिरे जुनूँ ने बनाई है तेरे ज़ुल्फ़ की शाम

  • शेयर कीजिए

तिरी ज़ुल्फ़ों को क्या सुलझाऊँ दोस्त

मिरी राहों में पेच-ओ-ख़म बहुत हैं

  • शेयर कीजिए

आप की मेरी कहानी एक है

कहिए अब मैं क्या सुनाऊँ क्या सुनूँ

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 15

आगरा और आगरे वाले

 

2002

Agra Aur Agre Wale

 

2002

Dastan-e-Shab

 

1979

हर्फ़-ए-तमन्ना

 

1955

Hazrat Ghaus-ul-Aazam Sawaneh-o-Talimat

Ma Tazkira Farzand-e-Ghaus-ul-Aazam

 

Maikada

 

 

मय-ख़ाना

 

1974

Masael-e-Tasawwuf

 

1974

मसाइल-ए-तसव्वुफ़

 

1974

Masail-e-Tasawwuf

 

2000

चित्र शायरी 1

थी जुनूँ-आमेज़ अपनी गुफ़्तुगू बात मतलब की भी लेकिन कह गए

 

संबंधित शायर

  • नईमा जाफ़री पाशा नईमा जाफ़री पाशा Niece

"आगरा" के और शायर

  • नज़ीर अकबराबादी नज़ीर अकबराबादी
  • चाँद अकबराबादी चाँद अकबराबादी
  • शमीम फ़ातिमा जाफ़री शमीम फ़ातिमा जाफ़री
  • रश्मि भारद्वाज रश्मि भारद्वाज
  • सिद्धार्थ साज़ सिद्धार्थ साज़
  • शिव नारायण आराम शिव नारायण आराम