noImage

दाऊद औरंगाबादी

- 1744

सिराज औरंगाबादी के प्रमुख समकालीन और प्रतिद्वंद्वी

सिराज औरंगाबादी के प्रमुख समकालीन और प्रतिद्वंद्वी

ग़ज़ल 25

शेर 12

'वली' सानी नहीं दाऊद लेकिन

ग़ज़ल कहता है हर इक बा-तलाज़ुम

  • शेयर कीजिए

देखना है पिया की ज़ुल्फ़-ए-दराज़

या इलाही मुझे दे उम्र-ए-दराज़

  • शेयर कीजिए

पिव बिना दिल मिरा उदासी है

गाह जोगी है गाह सन्यासी है

  • शेयर कीजिए

पुस्तकें 1

दीवान-ए-दाऊद औरंगाबादी

 

1958

 

संबंधित शायर

  • सिराज औरंगाबादी सिराज औरंगाबादी समकालीन
  • मीर तक़ी मीर मीर तक़ी मीर समकालीन